वाराणसी, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का परिणाम घोषित हाेने के बाद भी अभी पंचायतों का गठन होना शेष है। अभी ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायत सदस्य को शपथ दिलायी जानी है। इससे पूर्व शासन ने नई पंचायत के लिए 15वें वित्त आयोग की प्रथम किस्त 18 करोड़ रुपये आवंटित कर दिए हैं। इसमें से ग्राम पंचायत के लिए 12 करोड़ रुपये तथा क्षेत्र पंचायत के लिए दो करोड़ 71 लाख व जिला पंचायत के लिए भी दो करोड़ 75 लाख से अधिक धनराशि जारी कर दी है। यह धनराशि पंचायतें गांव व क्षेत्र के विकास के साथ ही कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए संसाधन जुटा सकेंगी।जिला पंचायत राज अधिकारी शाश्वत आनंद सिंह ने कहा कि धनराशि शासन से आवंटित की जा चुकी है। धनराशि सीधे पंचायतों के खाते में जाएगी। इसके अलावा कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए भी अलग से पंचायत राज विभाग की ओर से स्वास्थ्य विभाग को राशि जारी होगी। हालांकि आवंटन की अभी जानकारी नहीं है।

पंचायतों के पास पहले से पैसा मौजूद

जिला पंचायत राज अधिकारी ने कहा कि पंचायतों के पास पहले से भी पैसा है। छोटी पंचायतों के पास भी दो से ढाई लाख खाते में अपशेष हैं। इसके अलावा क्षेत्र पंचायत के खाते में भी बीस से 25 लाख रुपये है। बहुत कम पंचायतें होगी जहां पैसा नहीं होगा। फिलहाल इस राशि के इस्तेमाल के आदेश दिए गए हैं। गांवों में आक्सीमीटर की खरीद के साथ ही फागिंग व स्प्रे मशीन आदि का क्रय जेम्स पोर्टल के माध्यम से किया जाना है। पंचायतों को इस बाबत आदेश जारी किए जा चुके हैं। जेम्स पोर्टल पर खरीदने में कई पंचायतें जुटी हुई हैं।

जून में नई पंचायत के गठन की उम्मीद

नई पंचायतों के गठन की उम्मीद इस माह समाप्त होनी मुश्किल है। शासन से पहले आदेश था कि 15 मई को ग्राम प्रधान समेत अन्य पदों के विजयी प्रत्याशियों को शपथ दिलायी जाएगी। लेकिन बाद में कोविड संक्रमण को देखते हुए इसे स्थगित कर दिया गया। बताया जा रहा है कि अब जून के प्रथम सप्ताह में शपथ ग्रहण की प्रक्रिया होगी। इसके बाद पंचायतों की पहली बैठक आदि आयोजन के निर्देश दिए जाएंगे। फिलहाल कोविड संक्रमण को देखते हुए नई पंचायतें अपने स्तर से काम करना शुरू कर दी है। हालांकि कागजी कोई कार्य नहीं पर आपदा को देखते हुए जनहित में प्रशासन का सहयोग कर रही हैं।