वाराणसी, जेएनएन। बगैर परीक्षा के प्रोन्नत की मांग को लेकर बीसीए के छात्रों ने सोमवार को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के कुलसचिव को घेरा। इस दौरान संबद्ध कालेज के छात्रों ने बगैर परीक्षा के बैक में भी प्रोन्नत करने का दबाव बनाया। वहीं कुलसचिव ने छात्रों की मांग खारिज कर दी। कहा कि बैक में प्रोन्नत करने का कोई प्रावधान नहीं हैं। बीएसए के छात्रों को उन्होंने चौथे सेमेस्टर की बैक परीक्षा नंवबर में कराने का आश्वासन दिया।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए यूजीसी ने स्नातक व स्नातकोत्तर अंतिम खंड को छोड़कर अन्य खंडों में बगैर परीक्षा के छात्रों को अगली कक्षा में प्रोन्नत करने का निर्देश दिया है। वहीं बीएसए के तमाम छात्र छठे सेमेस्टर की परीक्षा पास कर चुके हैं, जबकि चौथे सेमेस्टर में एक पेपर में बैक है। यूजीसी की गाइडलाइन के अनुसार इस वर्ष चौथे सेमेस्टर के छात्रों को बगैर परीक्षा के अगली कक्षा में प्रोन्नत कर दिया गया। इस साल चौथे सेमेस्टर की परीक्षा न होने से एक पेपर में अनुत्तीर्ण छात्रों का रिजल्ट फंस गया। राजेंद्र प्रसाद त्रिपाठी महाविद्यालय (चंदौली) के छात्रों का कहना है कि बैक के कारण एमसीए में दाखिला फंस गया है। ऐसे में पूरा एक साल बर्बाद होना तय है। छात्रों के अनुरोध को देखते हुए कुलसचिव डा. एसएल मौर्य ने बीसीए चौथे सेमेस्टर का नवंबर में स्पेशल बैक कराने का आश्वासन दिया। कहा कि यह प्रकरण परीक्षा समिति में रखा जाएगा। परीक्षा समिति की हरी झंडी मिलते ही बैक परीक्षा का टाइम टेबल जारी कर दिया जाएगा। कुलसचिव का घेराव करने वालों में मुख्य रूप से अभिषेक सोनकर, नीतू कुमारी, रोशन राय, आशीष, अविनाश प्रभात सहित अन्य लोग शामिल थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस