जासं, वाराणसी : बनारस की गलियां, घाट, सड़क सबकुछ आपके आस-पास से गुजरता नजर आएगा। आप गंगा की जल तरंगों को महसूस कर सकेंगे, घंटे-घड़ियाल की आवाज आपको विस्मृत करेगी। कचौड़ी-जलेबीव पान की रंगत हो या ठंडई की मिठास सब आपकी नजरों के सामने से गुजरेगा। ये कोई जादू नहीं, न ही हम बात कर रहे हैं ख्वाबों की दुनिया की, बल्कि ये सब एक साथ आपको देखने को मिलेगा दीनदयाल हस्तकला संकुल में।

जी हां म्यूजियम के पहले तल पर तारा मंडल की तर्ज पर 360 डिग्री का इमर्सिव जोन (वीडियो संग्रहालय) तैयार किया गया है। 360 डिग्री की दीवार पर प्रोजेक्टर के माध्यम से ऑडियो-वीडियो माध्यम से काशी दर्शन कराया जाएगा। यहां कदम रखते ही आपके सामने से रिक्शा चालक गुजरते दिखाई देंगे। गलियों में छन रही पूड़ी-कचौड़ी हो या जलेबी, कैंट रेलवे स्टेशन हो या सारनाथ, महामना की बगिया हो या लहुराबीर की सड़कें, दालमंडी की रौनक हो या गोदौलिया की चहल-पहल सब कुछ एक साथ दिखाई व सुनाई देगा। चंद मिनटों में आप खड़े-खड़े पूरे बनारस की सैर कर लेंगे।

एसोसिएशन ऑफ कारपोरेशन एंड एपेक्स सोसाइटीज ऑफ हैंडलूम (आकाश) के सहायक सचिव अनिल कुमार सिंह के अनुसार इमर्सिव जोन के लिए वीडियो तैयार कर लिया गया है। कुछ त्रुटियां थीं, जिन्हें दूर करने के बाद सोमवार से इसे शुरू किया जाएगा। अभी लोग इसका मुफ्त आनंद उठा सकते हैं। शुल्क का निर्धारण बाद में किया जाएगा।

Posted By: Jagran