वाराणसी, जागरण संवाददाता। दुनिया के लिए आकर्षण का केन्द्र बना नए रूप में सजा-संवरा बाबा काशी विश्वनाथ का दरबार राजपथ पर नजर आएगा। इस बार गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने वाली यूपी की झांकी में काशी विश्वनाथ धाम प्रमुख आकर्षण होगा। इतना ही नहीं मां गंगा भी इसमें नजर आएंगीं। इस बार जिन राज्यों की झांकी परेड में प्रदर्शित की जाएगी, उनमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मेघालय और पंजाब शामिल हैं। केंद्र की विशेषज्ञ समिति ने इन झांकियों का चयन किया है। केंद्र की नौ झांकिया भी इस बार राजपथ पर नजर आएंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वनाथ कारीडोर के तैयार होने के बाद बाबा के दरबार का अलौकिक स्वरूप सामने आया है। देश व दुनिया भर के लोग इसे निहारने वाराणसी आ रहे हैं। ऐसे में जब गणतंत्र दिवस समारोह में यूपी की झांकी को शामिल होने का मौका मिला तो उसमें बाबा दरबार को प्रमुखता देना तय किया गया। यह बेहतर मौका है जब राजपथ पर परेड के दौरान झांकी के जरिए काशी कारीडोर के भव्य रूप को सबके सामने बेहतर तरीके से लाया जा सकता है। उत्तर प्रदेश की झांकी इस बार काशी विश्वनाथ धाम व 'एक जिला एक उत्पाद' (ओडीओपी) पर केंद्रीत रहेगी। दिल्‍ली में झांकी को तैयार किया जा रहा है। इसे इस तरह से तैयार किया जा रहा है कि बाबा काशी विश्वनाथ के दरबार के साथ धर्म की नगरी काशी की परंपरा तथा संस्‍कृति दिखाई दे।

कोरोना के असर से कम होंगे दर्शक : कोरोना का असर अभी तक बरकरार है। इसके चलते गणतंत्र दिवस समारोह के आयोजन में भी सतर्कता बरती जा रही है। इस बार गणतंत्र दिवस परेड समारोह में सिर्फ पांच से आठ हजार दर्शकों को ही आने की अनुमति दी जाएगी। रक्षा मंत्रालय ने कहना है कि अभी दर्शकों की संख्या पर अंतिम फैसला नहीं किया गया है, लेकिन यह संख्या आठ हजार से ज्यादा नहीं होगी। सामान्य परिस्थितियों में करीब सवा लाख दर्शक राजपथ पर मौजूद रहते हैं। इस बार जो लोग परेड देखने राजपथ पहुंचेंगे उन्हें भी कोविड नियमों के तहत सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इसे देखते हुए राजपथ पर भी इस बार 10 विशाल एलईडी स्क्रीन लगाई जाएंगी। लोगों को घर से ही परेड देखने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

Edited By: Abhishek Sharma