वाराणसी, जेएनएन। पंजाब नेशनल बैंक के करखियांव शाखा में सोमवार से ऑडिट टीम ने जांच शुरू कर दिया है। बैंक के डीजीएम राजेश कुमार ने बताया कि पहले दिन टीम ने सभी रिकॉर्ड को अपने कब्जे में लिया है। अब बारी-बारी सभी दस्तावेजों की जांच की जाएगी। जिसमें कुछ समय लग सकता है। ऑडिट टीम अपनी रिपोर्ट सर्किल आफिस को देगी। जिसे हम अंचल कार्यालय को भेजेंगे। इसके साथ ही बैंकिंग नियमानुसार यदि एक लाख से अधिक के गड़बड़ी का मामला है तो ऑडिट रिपोर्ट की कॉपी इओवी (इकोनॉमिक्स ऑफेन्स विंग) को भेजना अनिवार्य रहता है। इस केस में भी इओवी को रिपोर्ट भेजी जाएगी।

बैंक की ओर से जारी की गई एडवाइजरी

डीजीएम राजेश कुमार ने सोमवार को करखियांव शाखा की घटना के दृष्टिगत बैंक के सभी शाखाओं के लिए एडवाइजरी जारी किया है। जिसमें सभी शाखा प्रबंधकों को निर्देश दिया गया है कि बैंकिंग नियमानुसार ही शाखा के कामकाज को करें। किसी भी नियम को दरकिनार न करें। शाखा की जितनी करेंसी चेस्ट की क्षमता है, उससे अधिक नकदी शाखा में न रखें। कैश को शाखा से बाहर भेजने और मंगवाने के लिए निर्धारित एजेंसी की सेवा लें।

अब तक रजिस्टर में हो रही थी पेट्रोलिंग, घटना के बाद शाखाओं में बढ़ी चौकसी

पीएनबी के करखियांव शाखा प्रबंधक फूलचंद राम की हत्या के छह दिन बाद सोमवार को पुलिस भी चौकन्नी नजर आई। अभी तक पुलिस केवल बैंक शाखाओं में रजिस्टर पर ही गश्त करती रही। सोमवार को पुलिस के उच्चाधिकारियों के निर्देश पर सभी चौकी प्रभारी अपने-अपने क्षेत्रों में स्थित बैंक शाखाओं में दिन भर गश्त करते नजर आए। बैंक शाखा में आए हर संदिग्ध को पुलिस ने रोका और टोका। यह क्रम दिन में चार बार चला। पहली बार सुबह 10, फिर दोपहर 12, फिर दो और शाम चार बजे तक यह सिलसिला हर दो-दो घंटे पर जारी रहा। बैंक में अचानक इतनी सख्ती देखकर ग्राहक भी भौचक थे।

 

Edited By: Saurabh Chakravarty