वाराणसी, जेएनएन। मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर मंगलवार से 100 विमानों का आवागमन होगा। ऐसे में अब मुंबई में फंसे पूर्वांचल के लोगों को घर लौटने में आसानी होगी। अब तक मुंबई एयरपोर्ट पर 50 उड़ानें रोज हो रही थीं। लॉकडाउन के दौरान बंद पड़ी विमान सेवाओं को 25 मई से शुरू कर दिया गया। विमान सेवा प्रारंभ किए जाने के दौरान महाराष्ट्र सरकार ने अंतिम दिन 50 उड़ानों की ही अनुमति दी। जिसमें रोज 25 विमानों को एयरपोर्ट पर आना व 25 विमानों को प्रस्थान करना था।

मुंबई एयरपोर्ट पर रोज 50 विमानों का आगमन व 50 का प्रस्थान होगा

ऐसे में वाराणसी से मुंबई के बीच चलने वाले विमान आए दिन निरस्त हो रहे थे, जिससे टिकट बुक कर यहां आने वाले यात्रियों को काफी परेशानी हो रही थी। विमान सेवाएं कम होने के चलते मुंबई से वाराणसी के बीच का हवाई किराया भी काफी अधिक था। वाराणसी आने के लिए यात्रियों को तीन गुना अधिक किराया देना पड़ रहा था। बावजूद इसके विमान निरस्त होने पर वह पैसा एयरलाइंस द्वारा क्रेडिट सेल में डाल दिया जाता था। अब मंगलवार से मुंबई एयरपोर्ट पर रोज 50 विमानों का आगमन व 50 का प्रस्थान होगा। एयरलाइंस के अधिकारियों का कहना है कि वाराणसी व मुंबई रूट पर भी कुछ विमान सेवाएं बढ़ सकती हैं। इसके अलावा मुंबई से दिल्ली व अन्य हवाई अड्डों से कनेक्टिंग विमानों द्वारा भी यात्रियों को आने में आसानी हो जाएगी। यह भी बताया कि विमानों की संख्या बढ़ाने पर मुंबई-वाराणसी हवाई मार्ग पर संचालित होने वाले विमानों की समय-सारिणी में भी बदलाव किया जा सकता है। हालांकि सोमवार को रात तक विमानों के शेड्यूल में बदलाव को लेकर कोई आदेश जारी नहीं हुआ था। वाराणसी एयरपोर्ट से जाने वाले यात्रियों की संख्या कम है जबकि मुंबई व दिल्ली समेत अन्य शहरों से आने वाले यात्रियों की संख्या अधिक है। वहीं वापस लौटने वालों को टिकट नहीं मिल रहा है, मिल भी रहा तो उसका किराया काफी अधिक है। इस बारे में एयरलाइंस के अधिकारियों का कहना है कि जाते समय विमान खाली जा रहे और आते समय सभी सीटें बुक हो जा रही हैं। संचालन में विमानन कंपनियों के लाखों खर्च होते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए मुंबई-वाराणसी का किराया अधिक है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021