गाजीपुर, जेएनएन। जम्मू कश्मीर के लोगों में अब नए प्रकार का विश्वास पैदा हुआ है। जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। यह देश की संसद ने पारित किया है, लेकिन भारत के साथ पूरी तरह से यह काम मुझे करना है। यह बातें जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने बुधवार को लंका मैदान में आयोजित अपने स्वागत समारोह को संबोधित करते हुए कहीं। 

कहा कि मैंने 112 दिनों में अनुभव किया है कि कश्मीर में प्रतिभा बहुत है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा गृहमंत्री अमित शाह ने मुझ पर जो भरोसा और विश्वास व्यक्त किया है उस पर खरा उतरने की कोशिश करूंगा। मैं आप सबसे कह सकता हूं कि जम्मू कश्मीर में जो दायित्व मुझे मिला है वहां ऐसा कोई काम नहीं होगा जिससे गाजीपुर का नाम कलंकित हो। जब मुझे यह दायित्व मिला लोगों ने कहा कि बहुत बड़ी चुनौती है। हमने सोचा चुनौती ही अवसर प्रदान करता है। खुद के अभिनंदन में उमड़े जनसमूह के गदगद श्री सिन्हा ने कहा कि यहां तक के रास्ते को मैं अकेले नहीं तय कर सकता। गाजीपुर के बहुत से लोगों ने अपना बहुत कुछ दिया है। अनेक कंटकों के बाद भी सही मार्ग पर चला जाय यह सीख आप सभी से मिली है। यहां के लोगों से माता वैष्णो जी के दर्शन,तथा अमरनाथ की यात्रा का आग्रह भी किया। कार्यक्रम को विधायक सुनीता सिंह एवं संगीता बलवंत ने भी संबोधित किया। नगर पालिका अध्यक्ष सरिता अग्रवाल ने आभार जताया, जबकि संचालन डा. हरिनारायण हरीश ने किया। इसके पूर्व उनका अंधऊ हवाई पट्टी व पैतृक गांव मोहनपुरवा में स्वागत किया गया।

उप राज्यपाल के बाइ रोड जाने का पता चलते ही उत्साहित हुए लोग

जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के बाइ रोड बाबतपुर जाने को लेकर बुधवार की शाम प्रशासन हलकान रहा। आनन-फानन रोड के दोनों तरफ कायम अतिक्रमण हटवाया गया। साथ ही मुख्य बाजार में भी बेतरतीब ढंग से खड़े वाहनों को हटवाया गया। लोग उम्मीद लगाकर बैठे थे कि पूर्व सांसद व वर्तमान में जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल उनके अभिवादन को स्वीकार करेंगे। शाम चार बजे के बाद अचानक मेन रोड के दोनों तरफ पटरियों पर कायम अतिक्रमण को हटवाया जाने लगा। साथ ही बेतरतीब ढंग से खड़े वाहनों को सही करवाया गया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021