चंदौली, जागरण संवाददाता। चंदौली जिले में धान खरीद की प्रक्रिया 18 दिन बाद शुरू हो जाएगी। दो लाख टन से अधिक खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। धांधली करने वाली एजेंसियां इस बार खरीद नहीं करेंगी। पारदर्शिता के लिए क्रय केंद्रों पर ई-पाप मशीनें लगाई जाएंगी। अंगूठा लगवाकर व आधार नंबर दर्ज करने के बाद ही किसानों की उपज खरीदी जाएगी।

जिले में 1.25 लाख हेक्टेयर में धान की खेती हुई है। लगभग चार लाख टन उत्पादन का लक्ष्य है। अक्टूबर के अंत तक धान की फसल की कटाई का क्रम शुरू हो जाएगा। ऐसे में जिला खाद्य व विपणन विभाग पहले से ही तैयारी में जुटा है। जिले में धान खरीद के लिए 30 क्रय केंद्रों को मंजूरी भी मिल चुकी है। मुख्यालय स्थित नवीन कृषि मंडी के अलावा अन्य प्रमुख कस्बों, नगरों व ग्रामीण इलाकों में क्रय केंद्र खोले जाएंगे। डिमांड के अनुरूप क्रय केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

इस बार जिला खाद्य विपणन विभाग, पीसीएफ, भारतीय खाद्य निगम, मंडी समिति समेत प्रमुख एजेंसियों को धान क्रय में लगाया गया है, जबकि किसानों का अनाज खरीदकर समय से भुगतान न करने वाली एजेंसियों को बाहर कर दिया गया है। ऐसे में क्रय केंद्रों पर अनाज बेचने वाले किसानों को इस बार भुगतान के लिए अधिक इंतजार नहीं करना होगा। किसानों को आनलाइन आवेदन करना होगा। बड़े किसानों के अपर जिलाधिकारी व छोटे किसानों के आवेदन का सत्यापन एसडीएम करेंगे। इसके बाद आनलाइन टोकन दिया जाएगा। इसके अनुसार ही क्रमवार ढंग से खरीद होगी।

बटाईदार किसान नहीं बेच सकेंगे धान : इस बार बटाईदार किसान अपनी उपज क्रय केंद्रों पर नहीं बेच सकते हैं। दरअसल, बटाईदार के नाम पर खरीद में काफी घपलेबाजी होती है। इसको देखते हुए सरकार ने बटाईदार किसानों की उपज न खरीदने का फैसला लिया है।

किसानों को मिलेगा 1940 रुपया समर्थन मूल्य : डिप्टी आरएमओ अनूप कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि किसानों को धान का समर्थन मूल्य 1940 रुपये और ए ग्रेड धान का 1960 रुपये प्रति क्विंटल दिया जाएगा। किसानों को मानक के अनुरूप अपने अनाज की सफाई करने के साथ ही सुखाकर केंद्र पर लाना होगा। अधिक नमी होने पर उपज नहीं खरीदी जाएगी।

Edited By: Abhishek Sharma