वाराणसी, जेएनएन। सरकार की मंशा के अनुरूप सरकारी विद्यालयों में बिजली पहुंचाने की कवायद शुरू की गई थी मगर योजना धरातल पर आज तक नहीं उतर सकी है। इसका लाभ न तो विद्यार्थी ले पा रहे हैं और न ही अब चुनाव में मतदान कर्मी ही लाभ ले सकेंगे। वाराणसी जनपद के 282 परिषदीय विद्यालयों में अब तक बिजली का कनेक्शन नहीं हैं। लोकसभा चुनाव से पहले सभी विद्यालयों में बिजली कनेक्शन लगवाने की तैयारी है ताकि पोलिंग सेंटर बनाया जा सके। जनपद के 862 परिषदीय विद्यालयों में पोलिंग सेंटर बनने है। इसमें से कई विद्यालयों में बिजली विभाग से कनेक्शन होने के बावजूद केबिल चोरी हो गया है। इसे देखते हुए इन विद्यालयों नए नए केबिल लगवाए जा रहे हैं। इसके अलावा रैंप मरम्मत करने का निर्देश दिया गया है। बीएसए जय सिंह ने बताया कि लोक सभा चुनाव में पोलिंग सेंटर बनने वाले सभी 862 विद्यालयों में बिजली, पेयजल, रैंप आदि की व्यवस्था की जा रही है। इस क्रम में बिजली के कनेक्शन के लिए इस्टीमेट तैयार किए जा रहे हैं। दूसरी ओर माध्यमिक विद्यालयों की सूची भी तैयार की जा रही है। डीआइओएस डा. वीपी सिंह ने बताया कि राजकीय व अनुदानित विद्यालयों में ही पोलिंग सेंटर बनना है। सभी राजकीय व अनुदानित विद्यालयों में पहले से ही बिजली का कनेक्शन है। इसी प्रकार सीबीएसई से मान्यता प्राप्त विद्यालयों में भी बिजली के कनेक्शन है। फिर भी नए सिरे से सूची तैयार कराई जा रही है ताकि लोकसभा चुनाव से पहले जो कभी हो उसे दूर कराया जा सके।

Posted By: Jagran