वाराणसी : समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व एमएलसी शतरूद्र प्रकाश ने मंगलवार को चंदौली सांसद व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डा. महेंद्र नाथ पांडेय की अध्यक्षता में आयोजित जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक में जब सवाल दागे कि स्वच्छता कार्यक्रम के लिए जब 22 करोड़ रुपये मिले थे तो बीते तीन सालों में महज 7 करोड़ 93 लाख ही क्यों खर्च हुए। प्रधानमंत्री का क्षेत्र होने के बाद भी क्यों इस कदर लापरवाही बरती गई जबकि पीएम खुद काशी में झाड़ू लगाकर अभियान की शुरूआत किए थे। बची धनराशि आखिर किस मद में और क्यों खर्च की गई। एमएलसी चेतनारायण सिंह भी पक्ष में खड़े हो गए और कहा कि आवंटित धनराशि का सही से इस्तेमाल होता तो हम पूरे देश में नंबर एक पर होते। एमएलसीद्वय के सवालों का किसी के पास कोई जवाब नहीं था।

कमिश्नरी सभागार में आयोजित निगरानी समिति की बैठक में शतरूद्र प्रकाश ने नगर निगम और प्रशासनिक अधिकारियों से पूछा कि पूरे शहर में स्टार्म वाटर की पाइप लाइन में आखिर क्यों हृदय योजना के नाम पर सीवर लाइन जोड़ दी गई। जिलाधिकारी ने प्रकरण की जांच का आश्वासन दिया। एमएलसी ने मीटिंग के समय से नहीं होने के साथ ही वर्तमान वित्तीय वर्ष के कार्य संबंधी आंकड़े की अनुपब्धलता पर भी सवाल किए।

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे डा. महेंद्र नाथ पांडेय ने लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता को निर्देश दिया कि नवनिर्मित सड़कों का लोकार्पण शुभारंभ क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों द्वारा कराया जाए व संबंधित योजना का शिलापट्ट भी लगाएं। सभी खंड विकास अधिकारी क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के संपर्क में रहें। मनरेगा से संबंधित नए शासनादेश का व्यापक प्रचार प्रसार हो। शहर उत्तरी विधायक रविंद्र जायसवाल ने साफ सफाई की व्यवस्था तथा लालपुर में पानी की टंकी द्वारा लोगों को ठीक ढंग से जल आपूर्ति की समस्या उठाने पर समिति द्वारा जाच कराए जाने का निर्देश दिया गया। विधायक ने सड़कों के निर्माण में नगर निगम तथा लोक निर्माण विभाग के बीच आपसी समन्वय नहीं होने का भी मुद्दा उठाया और निगम द्वारा नगर के मोहल्लों में साफ सफाई करने वाली एजेंसी तथा उस मोहल्ले के सफाई कर्मचारी व सुपरवाइजर के नाम मोबाइल नंबर का बोर्ड लगवाए जाने की समिति से माग की। कैंट के विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने पीएम आवास योजना, साफ-सफाई, नए हैंडपंप, लगाने में अनियमितता का मुद्दा समिति के समक्ष उठाया जिस पर समिति ने जाच कराने के निर्देश दिए। एमएलसी चेतनारायण द्वारा पिछली बैठक में यूपी कॉलेज की पुरानी पानी की टंकी को निष्प्रयोज्य घोषित कर गिराए जाने की माग की थी जो अब तक नहीं गिराई गई थी। जल निगम को मौके पर जाकर जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए गए। चेतनारायण सिंह ने आश्रम पद्धति विद्यालय सातो महुआ में पर्याप्त भवन की कमी का मुद्दा भी उठाया। पिंडरा विधायक अवधेश सिंह ने बसनी, कठिराव तथा अनेई में पाइप पेयजल योजना से संबंधित खामी, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में निर्माणाधीन बड़ागाव, कविरामपुर की खराब सड़क की जाच कराने की माग के साथ ही शहरी आवास योजना में दलालों के सक्रिय होने का मामला उठाया। बैठक में राज्यमंत्री अनिल राजभर, जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता सोनकर, मछली शहर सासद प्रतिनिधि, जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह, नगर आयुक्त नितिन बंसल, मुख्य विकास अधिकारी गौराग राठी समेत संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप