वाराणसी : हथियारों की तस्करी से जुड़े बहुचर्चित पुरुलिया कांड के प्रमुख सरकारी गवाह मंगला प्रसाद पटेल (48वर्ष) का शव रविवार को बिहार के किऊल स्टेशन के पास रेल लाइन पर पाया गया। बाबतपुर एयरपोर्ट पर प्री-पेड टैक्सी चलाने वाले सरकारी गवाह मंगला प्रसाद तीन दिन पूर्व कार खड़ी कर संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गए थे। काफी तलाश के बाद भी पता न चलने पर परिवारीजनों ने फूलपुर थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

मंगला प्रसाद किन हालात में बिहार पहुंचे और वहां उनके साथ क्या व कैसे हुआ, यह अभी रहस्य बना हुआ है। आरपीएफ इंस्पेक्टर की सूचना पर बिहार रवाना हो चुके परिवारीजनों ने मंगला की हत्या की आशंका जताई है।

लावारिस खड़ी मिली थी कार

सगुनहां (फूलपुर) गांव निवासी मंगला प्रसाद 1992 से बाबतपुर एयरपोर्ट पर टैक्सी चला रहे थे। उस समय एयरपोर्ट पर प्रीपेड टैक्सी की व्यवस्था नहीं थी। गत चार जनवरी को घर के पास सड़क किनारे उनकी कार लावारिस खड़ी मिली थी। कार में ही उसकी चाभी लटक रही थी। कार का तो पता परिजनों ने लगा लिया था लेकिन उनके बारे में कोई जानकारी नहीं मिल रही थी। छह भाइयों में पांचवे नंबर पर रहे मंगला को एक पुत्र व पुत्री है। दोनों की शादी हो चुकी है। पुत्री इस समय झझौर की ग्राम प्रधान जबकि लड़का नोएडा में साफ्टवेयर इंजीनियर है। इस बीच शव मिलने की सूचना पर परिवार में कोहराम मच गया। आरपीएफ ने मंगला प्रसाद के पास से मिले पता व मोबाइल नंबर पर इसकी जानकारी परिवार के लोगों को दी थी।

------------------

ऐसे जुड़े पुरुलिया कांड से

बात वर्ष 1996 की है जब बाबतपुर एयरपोर्ट पर हथियारों से भरा हवाई जहाज दो दिनों तक खड़ा रहा था। इसके बाद पुरुलिया (पश्चिम बंगाल) में इसी जहाज से बड़ी संख्या में कारबाइन गिराई गई थी। स्वचालित हथियार गिराने के इस मामले में मंगला प्रसाद को सरकारी गवाह बनाया गया था क्योंकि वह इस कांड के प्रमुख आरोपी न्यूजीलैंड के डेमी मूर को दो दिनों तक एयरपोर्ट से वाराणसी स्थित एक होटल में ले जाते व ले आते थे। डेमी मूर फिलहाल न्यूजीलैंड की जेल में है।

------------------

कहीं अंतरराष्ट्रीय साजिश तो नहीं

पुरुलिया कांड की चर्चा अंतरराष्ट्रीय पटल पर रही। भारत सरकार के लाख प्रयास के बाद भी इस कांड के प्रमुख आरोपी डेमी मूर का प्रत्यर्पण नहीं हो सका। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि मंगला प्रसाद की मौत कही अंतरराष्ट्रीय साजिश तो नहीं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप