वाराणसी : ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी यानी निर्जला एकादशी पर गुरुवार को काशीवासियों ने देवाधिदेव महादेव का 1008 कलश जल से अभिषेक किया। शख ध्वनि, डमरुओं की थाप और हर हर महादेव के उद्घोष से गंगा तट से बाबा दरबार तक को एकाकार किया। भजन-कीर्तन से पूरा इलाका गुंजाया और सर्वमंगल कामना से काशीपुराधिपति को दूध-जल समर्पित किया।

सुप्रभातम् द्वारा संयोजित अनूठी यात्रा के 19वें वार्षिक अनुष्ठान का शुभारंभ गंगा तट पर गौरी-गणेश व गंगा पूजन से किया गया। केदारघाट से 108 कलश लिए भक्तों का जत्था डा. आरपी घाट पहुंचा और 1008 गंगाजल पूरित कलशों का पूजन किया गया। इसके साथ पूरा इलाका हर हर महादेव के उद्घोष से गूंज उठा। सिर पर कलश उठाए श्रद्धालु तो पताका लहराई। शखों में 21 युवाओं ने ध्वनि फूंकी और 40 सदस्यीय डमरु दल ने गड़गड़ाहट बिखेरते हुए वातावरण को शिवमय किया। बैंड पर हर-हर महादेव शंभो की धुन पर मगन मन श्वेत वस्त्रधारी नंगे पाव चल रहे महिला-पुरुष भक्त झूमे। हिम शिवलिंग, काचीकामकोटि मठ्म के परमाचार्य व कलश यात्रा के परिकल्पनाकार स्व. राजकिशोर गुप्ता की छवि सहेजे रथ समेत आकर्षक झाकियों ने लोगों में ऊर्जा का संचार किया। दशाश्वमेध, गोदौलिया, बांसफाटक, ज्ञानवापी होते यात्रा बाबा दरबार पहुंची। बतौर यजमान उद्योगपति दीपक बजाज, मनोज बजाज, उमा बजाज, श्याम बजाज, जगदंबा तुलस्यान, मधु तुलस्यान ने वैदिक मंत्रों के बीच कलश पूजन और मंदिर में रूद्राभिषेक किया। संयोजनकर रहे केशव जालान व निधिदेव अग्रवाल ने भक्तों को कलश प्रदान किया। राजकुमार गुप्ता, उमाशकर अग्रवाल, हेमदेव अग्रवाल, सुरेश तुलस्यान, गोकुल शर्मा, अमित सरावगी, राजेश धानुका, महेश झुनझुनवाला, सोमनाथ विश्वकर्मा, अनिल केडिया, मुकुंद लाल टंडन, श्याम रस्तोगी आदि थे। सेवा की होड़ : कलश यात्रा में चल रहे श्रद्धालुओं की सेवा में विभिन्न संस्थाएं तत्पर रहीं। इसमें मारवाड़ी युवा मंच वाराणसी, श्याम मंडल ट्रस्ट, श्याम मंडल बालसखा, मारवाड़ी युवक संघ, मारवाड़ी युवा मंच गंगा शाखा, काशी मोक्ष दायिनी सेवा समिति शामिल थीं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप