जागरण संवाददाता, उन्नाव : जिले के क्वारंटाइन सेंटर और किचन की कौन कहे। जब जिला मुख्यालय पर ही क्वारंटाइन के लिए बन रहा खाना गुणवत्ताहीन पाया गया। खाने में कमी किसी और ने नहीं स्वयं डीएम ने अपने निरीक्षण के दौरान पकड़ी। खाना बनाने वाले ठेकेदार को डीएम ने मौके पर बुलवा कर कड़ी फटकार लगाई। साथ ही दोबारा ऐसी स्थिति पाए जाने पर कार्रवाई की चेतावनी दी।

डीएम रवींद्र कुमार ने सौभाग्य पैलेस में आश्रय स्थल को भेजे जाने वाले किचन का निरीक्षण गुरुवार को किया। आश्रय स्थल पर आने वाले प्रवासी श्रमिकों और व्यक्तियों के लिए बनाए जा रहे भोजन की गुणवत्ता की जांच की। जांच के दौरान वहां के भोजन उपलब्ध कराने वाले ठेकेदार ने बताया कि दाल, चावल, सब्जी, रोटी यहां श्रमिकों को खाने में दी जा रही है। डीएम ने भोजन की गुणवत्ता का परीक्षण कराया। जिसमें प्रवासी श्रमिकों को दी जाने वाली दाल और रोटी की गुणवत्ता ठीक नहीं पाई गई। उन्होंने ने ठेकेदार को फटकार लगाते हुए निर्देशित किया कि तत्काल अच्छी गुणवत्ता का भोजन उपलब्ध कराएं अन्यथा की दशा में सख्त कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने कहा कि भोजन एवं खाद्यान्न की गुणवत्ता में किसी भी तरह की कमी पाए जाने पर समझौता नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस के लिए अभिहित अधिकारी, खाद्य सुरक्षा एवं औषध प्रशासन को भोजन की गुणवत्ता तथा निरीक्षक, बांट माप विभाग को मात्रा की जांच कराने के बाद ही वितरण कराया जाए। उन्होंने कहा कि खाद्य वितरण की गुणवत्ता के लिए कमेटी बनाई गई है, जो मुख्य विकास अधिकारी व अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व से समन्वय स्थापित करते हुए कार्रवाई करेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि अभिहित अधिकारी, निरीक्षक, बांट माप प्रत्येक दिन अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस