जागरण संवाददाता, उन्नाव: राशन की कालाबाजारी रोकने की मंशा से शहरी क्षेत्र में लगी ई-पॉश मशीनों ने मंगलवार को धोखा दे दिया। जिले की सभी मशीनों से नेटवर्क गायब हो गया, जिससे राशन वितरण में कोटेदारों के साथ-साथ कार्डधारकों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। काफी देर तक नेटवर्क का इंतजार करने के बाद सभी को ऑफलाइन तरीके से राशन वितरित किया गया।

ऑनलाइन राशन वितरित करने के लिए जिले की 183 राशन दुकानों में ई-पॉश मशीनें लगवाई गई हैं। जिनके तहत ही सभी लाभार्थियों को राशन वितरित करने के निर्देश भी हैं। लेकिन, मंगलवार को इन मशीनों से अचानक नेटवर्क गायब हो गया और इन मशीनों ने कार्डधारकों के अंगूठे के निशान को पहचानना बंद कर दिया। इसके बाद कोटेदारों ने राशन वितरण भी बंद कर दिया। काफी देर तक नेटवर्क आने का इंतजार कोटेदार व कार्डधारक करते रहे। जब नेटवर्क नहीं आया तो लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। लोगों का गुस्सा देख कोटेदारों ने विभागीय अधिकारियों से बात की और बिना मशीन के वितरण कराने की मांग की। इसके बाद सभी को ऑफलाइन तरीके से राशन वितरित किया गया। इस बारे में जिला पूर्ति अधिकारी रामेश्वर प्रसाद ने कहा कि मंगलवार को पूरे प्रदेश की ई-पॉश मशीनों से नेटवर्क चला गया था। इससे परेशानी हुई थी।

Posted By: Jagran