जागरण संवाददाता, उन्नाव : ब्लॉक वार लगाई जा रही किसान पाठशाला में रबी पैदावार के दौरान उत्पादन की जैविक रणनीति और जीरो बजट खेती किसानों को सिखाई जा रही है। खेती से किसानों को दोगुनी आय करने के तरीके समझाए जा रहे हैं। पाठशालाएं बेसिक के उच्च और प्राथमिक विद्यालयों में लगाई जा रही हैं। किसान पाठशाला प्रथम चरण में 21-24 अक्टूबर तक दोपहर तीन से शाम साढ़े चार बजे तक लगाई जाएगी। साथ ही किसानों को पाठशाला में केसीसी जागरुकता दी जा रही है। पहले चरण में जिले के 230 राजस्व गांव लिए गए हैं। जहां प्रत्येक गांव से दो किसानों को पाठशाला में सम्मिलित करते हुए जानकारी दी जा रही है।

मंगलवार को 'द मिलियन फार्मस स्कूल' किसान पाठशाला विकास खण्ड नवाबगंज के ग्राम पटकापुर में निदेशक कृषि प्रसार रामशब्द जैसवारा ने निरीक्षण किया। उन्होंने किसानों से कहा कि अपनी आय को दोगुना करने के लिये 21 उपाय अपनाएं। जिसमें मृदा, बीज, सिचाई, उर्वरक, कृषि रक्षा रसायन आदि हैं। उन्होंने उत्पादन द्वारा वृद्धि लागत कम कम करने के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कृषि से विविधिकरण करके, रबी मौसम में संरक्षित खेती करके, पशुपालन और मत्स्य पालन करके अपनी आमदनी किसान भाई दोगुनी कर सकते है। उन्होंने सहफसली और अन्त: फसली खेती के रूप में आलू के साथ राई, चना के साथ राई, रबी मक्का के साथ सब्जी, मटर खेती करने की सलाह दी। किसान पाठशाला में विकास खण्ड असोहा के ग्राम कांथा में उप कृषि निदेशक (भूमि संरक्षण), लखनऊ मण्डल लखनऊ एसपी सिंह ने भाग लिया। उप कृषि निदेशक डॉ नंद किशोर, जिला कृषि अधिकारी केके मिश्रा, जिला कृषि रक्षा अधिकारी, भूमि संरक्षण अधिकारी, सहायक निदेशक मत्स्य, पशुचिकित्साधिकारी ने पाठशाला में विभागीय योजनाओं और तकनीकी जानकारी दी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस