मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सूत्र औरास : थाना क्षेत्र के सिधूर नेवाती खेड़ा गांव में बुधवार सुबह खेल-खेल में तीन वर्षीय की बच्ची तालाब में डूब गई। मौके पर मौजूद दूसरी बच्ची की जानकारी पर महिलाएं घटनास्थल की ओर भागी, जहां पर बच्ची का उतराता शव देख उसे तालाब से बाहर निकाला गया। सांस चलने की आस में बच्ची को मियागंज पीएचसी ले जाया गया, लेकिन चिकित्सक से मृत घोषित कर दिया।

सिधूर नेवाती खेड़ा गांव निवासी अनुज कुमार मिश्रा की तीन वर्षीय पुत्री दीक्षा मिश्रा पड़ोसी अंजू की तीन वर्षीय पुत्री के साथ घर के बाहर खेल रही थी। खेलते-खेलते दीक्षा घर के सामने बने तालाब में गिर गई। साथ में मौजूद दूसरी बच्ची ने अपने घर पहुंच कर बात बताई। इस पर अंजू के परिजनों ने आनन फानन दौड़ दीक्षा के परिजनों को सूचना दी। मौके पर पहुंची महिलाओं ने दीक्षा का उतराता शव देख उसे निकाल लिया और मियागंज पीएचसी में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। बच्ची की मौत की सूचना दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करने गये पिता अनुज को दी गई तो उसे पैरों तल जमीन खिसक गई। दीक्षा की मौत से मां शिल्पी, बहन आरोही, भाई आदित्य का रो-रो बुरा हाल है। थाना प्रभारी संजीव कुमार ने बताया कि परिजनों ने किसी प्रकार की अभी तक सूचना नहीं दी है।

-------------------

नमक से ढककर रखा गया शरीर

- दीक्षा की मौत के बाद किसी ने सुर्रा छोड़ दिया कि यदि बच्ची के शरीर को नमक से ढककर रख दिया जाए तो वह जीवित हो जाएगी, इस पर शव को नमक से ढककर रखा गया है। यह घटनाक्रम पूरे गांव में चर्चा का विषय बना हुआ है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप