संवाद सहयोगी, हसनगंज: राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में पात्र अभ्यर्थी के बदले अपात्र को दाखिला दिलाने का मामला प्रकाश में आया है। शैक्षिक सत्र 2018-19 में हुए खेल की जांच एसडीएम ने शुरू करा दी है। फोरमैन को तलब करते हुए मेरिट लिस्ट को संज्ञान में लिया है।

शैक्षिक सत्र को लेकर राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआइ) दाखिले 10 सितंबर से हुए। चार चरणों में सीटों को भरने का कार्य संस्थान ने किया। हसनगंज आइटीआइ में दाखिले की दौड़ में शामिल एक अभ्यर्थी को फायदा पहुंचाने के लिए मेरिट लिस्ट में हेरफेर किया गया। कोतवाली हसनगंज क्षेत्र के बीबीपुर गांव निवासी छात्र दिलीप की शिकायत में यह खेल पकड़ में आया। छात्र का नाम दाखिले की प्रथम सूची में शामिल होते हुए भी दूसरे को सीट दिला दी गई। प्रवेश से वंचित छात्र की शिकायत को संज्ञान में लेकर एसडीएम हसनगंज ने पूरे मामले में जांच शुरू कराई। एसडीएम ने फोरमैन एमएस चिश्ती से मेरिट लिस्ट की जानकारी ली। लिस्ट न दिखा पाने पर फोरमैन को उन्होंने जमकर फटकारा। एडीएम सूरज कुमार यादव ने बताया कि छात्र की शिकायत पर कराई गई जांच में फोरमैन द्वारा किया गया प्रवेश गलत पाया गया है। कोतवाली पुलिस को कार्रवाई करने का निर्देश दे दिए गए।

.........

मिली गंदगी, लगाई फटकार

- प्रवेश में किए गए फर्जीवाड़े की जांच के लिए आइटीआइ पहुंचे एसडीएम ने संस्थान का मुआयना भी किया। इस दौरान उन्हें परिसर गंदा मिला। प्रेक्टिकल रूम और शौचालय गंदे मिले। दो दिन में व्यवस्था दुरुस्त किए जाने के आदेश उन्होंने फोरमैन को दिए।

Posted By: Jagran