जागरण संवाददाता, उन्नाव : शनिवार रात कोतवाली पुलिस द्वारा मेडिकल कराने भेजे गए युवकों के साथियों ने इमरजेंसी मेडिकल आफीसर (ईएमओ) पर मन माफिक रिपोर्ट बनाने का दबाव बनाया। इन्कार करने पर युवकों ने डॉक्टर को कुर्सी से खींच गैलरी में लाकर जमकर पीटा। जब स्वास्थ्य कर्मियों ने लामबंद हो मारपीट करने वालों को ललकारा तो वह धमकी देकर भाग निकले। इएमओ से मारपीट की घटना को लेकर स्वास्थ्य कर्मियों में आक्रोश फैल गया। उन्होंने इमरजेंसी स्वास्थ्य सेवाएं ठप कर दी। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मारपीट करने वालों को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया, तब जाकर दो घंटे बाद स्वास्थ्य सेवाएं शुरू हुई।

शनिवार देर रात करीब एक बजे डॉ. आशीष सक्सेना जिला अस्पताल इमरजेंसी में ईएमओ की ड्यूटी पर थे। तभी सदर कोतवाली का होमगार्ड झब्बू सिंह आवास विकास कालोनी निवासी गोलू सिंह और हिमांशु चौधरी निवासी मोतीनगर को लेकर मेडिकल कराने पहुंचा। पुलिस हिरासत में रहे युवकों के चार-पांच साथी भी उनके साथ इमरजेंसी पहुंच गए। उन्होंने डॉक्टर पर दोनों युवकों के पक्ष में रिपोर्ट बनाने का दबाव बनाया। मना करने पर डॉक्टर से मारपीट करने लगे। हमलावरों के हौसले इतने बुलंद थे कि वह डॉक्टर को कक्ष से खींचकर गैलरी में लाए और वहां भी पीटा। मारपीट में डॉक्टर के कपड़े फट गए, चश्मा भी टूट गया। कुछ तीमारदारों और स्वास्थ्य कर्मियों ने एकजुट हो उन्हें ललकारा तो वह भाग निकले। डॉक्टर से हुई मारपीट की घटना से गुस्साए डाक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों ने इमरजेंसी सेवा ठप कर दी। कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच की, लेकिन स्वास्थ्य कर्मी काम करने को तैयार नहीं हुए। सीएमएस को सूचना दी गई लेकिन वह छुट्टी पर थे इससे सीनियर डॉ. राजीव इमरजेंसी पहुंचे। उन्होंने सीओ को फोन पर घटना जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने डॉक्टर से तहरीर लेकर मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी करने का आश्वासन दिया। घायल ईएमओ डॉ. सक्सेना का मेडिकल परीक्षण डॉ. राजीव ने किया। लगभग दो घंटे तक इमरजेंसी में अफरातफरी मची रही इस बीच मरीजों का बुराहाल रहा।

----------------------

अधिकारियों के न आने से स्वास्थ्य कर्मियों में रोष

- मारपीट की घटना के बाद स्वास्थ्य कर्मी आला पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को फोन मिलाते रहे लेकिन किसी का फोन नहीं उठा। सीएमएस भी अवकाश पर थे इससे कार्यकारी सीएमएस ने अस्पताल पहुंच स्वास्थ्य कर्मियों को समझा बुझा इमरजेंसी सेवा चालू कराई। उधर डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मियों ने किसी अफसर के न पहुंचने पर रोष जताया।

----------------------

पीएमएस ने बुलाई बैठक

- मारपीट को लेकर प्रांतीय चिकित्सा सेवा संघ के जिलाध्यक्ष डॉ. धीर सिंह और महामंत्री डॉ. संजीव ने सोमवार को सुबह 10 बजे बैठक बुलाई है। पीएमएस ने चेतावनी दी है बैठक से पूर्व गिरफ्तारी नहीं हुई तो स्वास्थ्य सेवाएं ठप करने का भी निर्णय लिया जा सकता है।

----------------------

डॉक्टर को पीटने वालों ने छोटा चौराहा भी की थी मारपीट

- जिला अस्पताल इमरजेंसी में डॉ. आशीष से मारपीट करने वाले युवकों ने इसके पूर्व छोटा चौराहा पर भी एक युवक को सरेराह पीटा था। यही नहीं इस दौरान वहां तमाशा देखने रुके एक आइसक्रीम विक्रेता और राहगीर को भी पीटा। सबसे खास बात यह थी कि छोटा चौराहा पर वज्र वाहन पिकेट में खड़ा था, लेकिन उस पर मौजूद पुलिस जवान घटना से अनजान बने रहे।

............

ईएमओ से मारपीट में पांच के खिलाफ मुकदमा

- ईएमओ डॉ. आशीष सक्सेना के साथ हुई मारपीट के मामले में सदर कोतवाली में गोलू सिंह निवासी आवास विकास कालोनी, हिमांशु चौधरी निवासी मोती नगर, अंशू सविता और दो अज्ञात लोगों के खिलाफ मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट सहित आठ धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। सदर कोतवाली प्रभारी डीसी मिश्रा ने बताया कि आरोपितों की धरपकड़ में पुलिस लगी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप