जागरण संवाददाता, उन्नाव : रेल संरक्षा और यात्री सुरक्षा की दृष्टि से बीते तीन साल से फाइलों में करवट ले रही सीसीटीवी लगाने की योजना को मूर्त रूप देने की कवायद स्टेशन पर शुरू हो चुकी है। साल 2019 के अंत तक कैमरे लग जाएंगे। रेलटेल के सर्वे बाद उपकरणों की खरीद और उपलब्धता का कार्य तेज कराते हुए एसएनटी और विद्युत विभाग को लखनऊ रेल मंडल ने निर्देशित किया है।

ट्रेनों के साथ यात्रियों को महफूज रखने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम छोटे-बड़े स्टेशनों पर किए जा रहे हैं। इसके लिए प्लेटफार्म के साथ स्टेशन परिसर में सीसीटीवी लगाए जा रहे। उन्नाव स्टेशन पर 40 सीसीटीवी लगेंगे। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार रेलटेल के इंजीनियर द्वारा बीते सितंबर माह में उन्नाव स्टेशन का सर्वे किया गया था। वीडियो सर्विलांस सर्वे (वीएसएस) स्कीम के तहत कैमरे लगने हैं। डोम, बुलेट, पीटीजेड, यूएचडी कैमरे स्टेशन के लिए मंजूर हुए हैं। आरपीएफ, परिचालन, दूरसंचार, वाणिज्य, रेलटेल और विद्युत विभाग को संयुक्त रूप से कार्य करना है। डीआरएम संजय त्रिपाठी के अनुसार सीसीटीवी लगाने का कार्य स्टेशन पर होना है।

------------

15 दिनों में वायरिंग का कार्य

- सीसीटीवी लगाने का कार्य 20 दिसंबर से पहले पूरा कर लेना है। इसे देखते हुए 15 दिनों का समय वायरिग व अन्य बुनियादी कार्यों को लेकर एसएनटी को दिया गया है। लखनऊ रेल मंडल के अधिकारियों द्वारा पूरे कार्य पर निगरानी रखी जा रही है। कैमरा लग जाने के बाद स्टेशन के साथ दोनों क्रॉसिग कल्याणी व कचहरी ओवर ब्रिज का निचला हिस्सा (ट्रैक हिस्सा) 24 घंटे नजर में होगा।

------------

यहां पर लगेंगे कैमरे

- समस्त प्लेटफार्म, फुट ओवर ब्रिज, यात्री प्रतीक्षालय, पार्किंग स्थल, स्टेशन यार्ड लाइन, कल्याणी और कचहरी ओवर ब्रिज के नीचे, बुकिग कार्यालय, स्टेशन परिसर, पूछताछ केंद्र।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप