फोटो 13 एसएलटी.1

--------------------

संवादसूत्र, अखंडनगर (सुलतानपुर) : कायाकल्प योजना के तहत विकास खंड के 206 बेसिक स्कूलों के शौचालय निर्माण कराए जाने के निर्देश दिए गए थे। छह विद्यालयों में कार्य शुरू भी हो गया, लेकिन अचानक उसे बंद कर दिया गया। अब पुन: निर्माण का काम कब शुरू किया जाएगा। इस पर जिम्मेदार कुछ स्पष्ट नहीं बोलते। जबकि स्कूलों में शौचालय न होने से उसमें पढ़ने वाले विद्यार्थियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

गत 21 दिसंबर को जिले में सीएम के दौरे के दौरान गांवों में शौचालय को बनवाए जाने की बात कह कर अफसरों ने काम बंद करा दिया था। न तो गांव के ही शौचालय बन सके और न ही स्कूलों को इससे संतृप्त किया जा सका। स्वच्छता अभियान का किस कदर मखौल उड़ाया जा रहा है। यह प्रावि. पाराबासुपुर, बनबहा सिरखिनपुर, डौंडीफिरोजपुर, कटवा अखंडनगर, हरपुर, लोकनाथपुर में देखा जा सकता है। यहां कार्य शुरू करने के बाद बंद कर दिया गया। अखंड नगर बाजार के फूल चंद्र अग्रहरि व सिराज अहमद कहते हैं कि उनके बच्चे अब तो स्कूल जाना ही नहीं चाहते। पूछने पर बताते हैं कि वहां शौचालय नहीं है। नित्यक्रिया के लिए उन्हें घर भाग कर आना पड़ता है। सीएचसी अखंडनगर के अधीक्षक डा.रमेश यादव भी इसे बच्चों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बताते है।ं

------------

विद्यालयों में शौचालय की स्थिति पर शीघ्र ही रिपोर्ट मंगाया जाएगा। जहां निर्माण कार्य ठप हैं वहां शुरू कराया जाएगा।

-पंकज ¨सह, खंड शिक्षा अधिकारी अखंडनगर।

----------------

मिस्त्री और मजदूर की कमी के चलते निर्माण को बीच में रोकना पड़ा। गांव के शौचालय बन जाने के बाद स्कूलों के शौचालय बनवाए जाएंगे।

-ओमप्रकाश मिश्र, एडीओ पंचायत

Posted By: Jagran