संवादसूत्र, सुलतानपुर : ई-कामर्स कंपनियों के व्यवसाय पर व्यापारियों ने सवाल खड़ा कर दिया है। उन्होंने सीधे आरोप लगाया है कि ये कंपनियां टैक्स चोरी कर रही हैं और इन पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। जिसका प्रतिकूल असर खुदरा एवं लघु व्यवसाय पर पड़ रहा है। इन्हीं सवालों को लेकर शुक्रवार को व्यापारियों ने सड़क पर प्रदर्शन किया। आक्रोशित लोग जुलूस की शक्ल में जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे वहां अपर जिलाधिकारी को नौ सूत्रीय मांगपत्र सौंपा। सुलतानपुर उद्योग व्यापार के प्रदेश महामंत्री रवींद्र त्रिपाठी की अगुआई में प्रदर्शन कर रहे व्यापारी ई-कामर्स कंपनियों पर टैक्स लगाने और उन्हें नियंत्रित करने के लिए आयोग गठित किए जाने की मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि यदि ऐसा नहीं होगा तो छोटे उद्योग धंधे और व्यवसाय खत्म हो जाएंगे। जीएसटी के तहत अभी अर्थदंड या जुर्माना न लगाया जाए। एक राष्ट्र -एक टैक्स लागू किया जाए और मंडी शुल्क को समाप्त किया जाए। पेंशन योजना, व्यापारी उत्पीड़न आदि पर भी प्रभावी कदम उठाए जाएंगे। 15 दिसंबर से 15 मार्च तक गंगा के निकट लगे उद्योगों को बंद करने के निर्णय को वापस लेने की भी मांग लोगों ने की है। शस्त्र लाइसेंस जारी करने और राज्य सभा व विधान परिषद में व्यापारियों को भी जगह देने की मांग उठाई गई। इस मौके पर जिला प्रभारी अनूप श्रीवास्तव, रमेश अग्रहरि, घनश्याम अग्रहरि, जयप्रकाश गुप्ता, पवन मोदनवाल, हिमांशु मालवीय, हेमंत पांडेय, अनुज कुमार, केदारनाथ आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप