सुलतानपुर : शारदीय नवरात्र के प्रथम दिन रविवार को देवी मंदिरों के साथ घरों में कलश स्थापना हुई। इसी के साथ श्रद्धालुओं ने देवी मां के प्रथम स्वरूप शैलपुत्री की आराधना की। दिन भर मंदिरों में मां के जयकारे लगते रहे। घंटा-घड़ियाल की गूंज से वातावरण भक्तिमय बना रहा। भक्तों ने दुर्गा चालीसा, सप्तशती का पाठ किया। शाम को मंदिरों में होने वाली विशेष आरती में भी लोग शामिल हुए।

नगर के सिद्धेश्वरनाथ मंदिर, पल्टन बाजार स्थित काली मंदिर, रुद्रनगर स्थित मां नैना मंदिर, सीताकुंड घाट स्थित दुर्गा मंदिर, मुरारीदास गली मां दुर्गा मंदिर, बाटा गली मां काली मंदिर समेत अन्य मंदिरों पर भक्तगण मंदिरों में इकट्ठा हुए। धूप, दीप से मां की विधिवत वंदना कर लोक कल्याण की कामना भक्तों ने की। घर-घर कलश स्थापना की गई और विधि-विधान से पूजन अर्चन हुआ। लोगों ने उपवास भी रखा।

लोहरामऊ में उमड़ी भक्तों की भारी भीड़ :

भदैंया : नगर के समीम सिद्धपीठ लोहरामऊ धाम पर भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी। अलसुबह से ही भक्तों की लंबी कतारें मां के मंदिर में लगने लगी। हजारों लोगों ने देवी मां का दर्शन कर माथा टेका। भक्तों ने मां के सामने अपना मनोरथ सिद्ध होने की दुआएं मांगी। दिन भर हवन-पूजन का सिलसिला चलता रहा।

हुई कलश स्थापना :

नगर समेत ग्रामीणांचलों में स्थापित सैकड़ों पूजा पंडालों के लिए आरक्षित किए गए स्थानों पर भी भक्तों ने कलश स्थापना कर दुर्गा की पूजा की। यहां का दुर्गापूजा महोत्सव के लिए पंडाल बनाने की प्रक्रिया चल रही है। सप्तमी के दिन मूल नक्षत्र में मां की प्रतिमा स्थापित की जाएगी। इसी के साथ दुर्गापूजा महोत्सव की शुरुआत होगी जो पूर्णिमा तक चलेगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस