संवादसूत्र, सुलतानपुर : लोहड़ी पर्व पर सोमवार की देररात तक शहर के सिख बहुल इलाके गुरुनानक पुरा में हर्षोल्लास व्याप्त रहा। देररात लोहड़ी जल उठी और परंपरा के मुताबिक लोक गीत गाए गए। सुंदर मुंदरिए तेरा कौन विचारा हो, दुल्ला भट्टी वाला हो..। दुल्ले ने धी ब्याही हो, शेर शक्कर पाई हो, कुड़ी दे बोझे पाई हो, कुड़ी दा लाल पटाका हो..आदि गीतों पर युवक-युवतियां खूब थिरके। भुने मक्के लोगों को प्रसाद के रूप में वितरित किए गए। घर-घर जाकर लोहड़ी मांगने की रश्म भी निभाई गई।

Posted By: Jagran