सुलतानपुर, संवादसूत्र। गश्त पर निकले चौकी प्रभारी को कुत्ते ने काट लिया। इससे वह जख्मी हो गए। हालांकि, कुछ ही देर बाद कुत्ते की मौत हो गई। कारण, जो भी हो लेकिन यह घटना इलाके में चर्चा का विषय बन गई है। बल्दीराय थाने के वलीपुर चौकी प्रभारी राकेश कुमार ओझा गुरुवार की शाम गश्त पर जा रहे थे। चौकी से बाहर निकलते समय ही उन्हें कुत्ते ने काट लिया। दांत लगने से पैर में गहरा घाव हो गया। इसके कुछ ही देर बाद कुत्ते की मौत हो गई। पता चला है कि कुत्ता पागल था।

चौकी प्रभारी बोले, कुत्‍ता बेहद कमजोर था 

चौकी प्रभारी ने बताया कि कुत्ता बेहद कमजोर था। शायद इस कारण उसकी मौत हो गई। हमने बचाव के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगवा लिया है। कोई खास परेशानी नहीं है। इस कारण क्षेत्र में ड्यूटी करने निकले हैं। वहीं, दूसरी ओर ओझा का कुशलक्षेम जानने के लिए लोग उन्हें फोन कर रहे हैं। साथ ही यह मामला तेजी से प्रसारित हो रहा है। लोग तरह-तरह के कमेंट भी कर रहे हैं। कुछ लोग बचाव के उपाय भी बता रहे हैं।

इंजेक्‍शन का कोर्स पूरा करना बेहद जरूरी 

यदि कोई कुत्ता रेबीज से पीड़ित होता है तो अमूूमन एक सप्ताह के भीतर उसकी मौत हो जाती है। कारण रेबीज के वायरस उसके मस्तिष्क तक पहुंच जाते हैं। ऐसे में लग रहा है कि कुत्ता कई दिनों से बीमारी से ग्रसित था, इस कारण चौकी प्रभारी को काटने के कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। रेबीज से पीड़ित व्यक्ति भी जानवरों जैसा व्यवहार करने लगता है। इसलिए इससे बचाव के लिए इंजेक्शन का कोर्स पूरा करना बेहद जरूरी होता है। साथ ही घाव की सफाई और स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।  - डा. आर धीरेन्द्र, फिजीशियन जिला अस्पताल

Edited By: Anurag Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट