संवादसूत्र, अलीगंज (सुलतानपुर): विकासखंड कुड़वार के अलीगंज कस्बे में स्वच्छता अभियान पूरी तरह दम तोड़ चुका है। कस्बे में गंदगी की भरमार है। दुकानों और घरों से निकले कूड़े सड़क पर फैले रहते हैं। सफाई कर्मियों की लंबी फौज मौज कर रही है।कहने को ग्रामसभा मनियारी का हिस्सा है, लेकिन बढ़ती आबादी, बाजार के विस्तारीकरण, रोज नए नए खुलते व्यापारिक प्रतिष्ठान, सरकारी कार्यालय, बैंक, स्कूल आदि होने से कस्बे का स्वरूप शहरीकरण में तब्दील होता जा रहा है, लेकिन सुविधाओं में इजाफा होने के बजाए गंदगी व कूड़ा बढ़ता जा रहा है। जिम्मेदार अधिकारी जानबूझकर अनजान बने हैं। कस्बे में कोटिया नाका, बस स्टॉप, चंदौकी मोड़ आदि के आसपास तो इतनी गंदगी रहती है कि लोगों को अपने नाक पर रुमाल रख कर गुजरना पड़ता है । अगल बगल के गांव भी गंदगी के चपेट में हैं। जहां पर सफाई कर्मी हैं वहां भी गंदगी के ढेर पड़े रहते हैं ।

-----------------

सरकारी प्रतिष्ठान भी गंदगी की चपेट में

कस्बे में तीन बैंक, पुलिस चौकी, पोस्ट ऑफिस, पशु अस्पताल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व प्राइमरी एवं जूनियर विद्यालय भी गंदगी की चपेट में हैं। इनके परिसर गंदगी व कूड़े से पटे पड़े हैं। इन क्षेत्रों में सार्वजनिक शौचालय भी नहीं होने से गंदगी है।

-----------------

दुर्गा पूजा महोत्सव में भी नहीं हुई सफाई

कस्बे के डॉ अवधेश ¨सह, गजराज यादव, ओम प्रकाश शर्मा, राकेश मिश्रा अनिल जायसवाल मंगरु, बबलू, नवाब अली, अंसार अकबाल आदि का कहना है कि इस समय कस्बे में दुर्गा पूजा महोत्सव चल रहा है। तीन दर्जन के आसपास देवी प्रतिमाओं की स्थापना की गई है। फिर भी शासन प्रशासन का ध्यान सफाई की तरफ नहीं गया।

----------------------

बिना सफाईकर्मी के इतने बड़े कस्बे की सफाई करवाना संभव नहीं है। यह पद काफी समय से रिक्त है। नियुक्ति के लिए मैंने कई बार उच्चाधिकारियों से कहा, लेकिन अभी तक नियुक्ति नहीं हुई।

-तेज कुमार जायसवाल, ग्राम प्रधान - ग्राम प्रधान को प्रस्ताव बनाकर देना चाहिए। सफाईकर्मी की नियुक्ति जिला पंचायत राज अधिकारी से बात करके शीघ्र ही कर दी जाएगी।

जितेंद्र कुमार मिश्रा, खंड विकास अधिकारी

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप