संवादसूत्र, सुलतानपुर : शारदा सहायक खंड-16 की बड़ी नहर के जर्जर पटरी की कटान रोकने के लिए इसकी लाइ¨नग भीतर से पक्की करने के लिए शासन को भेजी गई 205.42 लाख रुपये की कार्ययोजना अधर में है। तेज बहाव से दिन प्रति दिन पटरी कट रही है और कभी भी बड़ी कटान होने का खतरा बना हुआ है।

ब्लॉक मुख्यालय जय¨सहपुर स्थित सुलतानपुर समानांतर शाखा के किलोमीटर 115.800 से 116.270 तक दायीं नहर की पटरी बेहद क्षतिग्रस्त है। बीते दो वर्षों से पानी के बहाव के कारण इसकी निरंतर कटान हो रही है। विभाग बांस लगाकर इस कटान को रोकने की खानापूर्ति कर रहा है। पटरी की कटने की आशंका से लोग सहमे हुए हैं, पर जिम्मेदार आंख मूंदे हैं। ब्लाक को जाने वाला नहर मार्ग पानी की कटान से संकरा होता जा रहा है। रोड पर आए दिन दुर्घटना होती है। कुछ माह पूर्व चार पहिया वाहन नहर में पलट गया था। तत्कालीन डीएम व सदर विधायक सीताराम वर्मा ने कटान से निजात दिलाने के लिए नहर को पक्की कराने का आश्वासन भी कारगर साति नहीं हो रहा है। लोहे के ड्रम से बैरीके¨डग की गई पर, कटान की वजह से वह ढह गई। रजिस्ट्री कार्यालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आदि स्थानों पर आने-जाने वाले लोग इसी मार्ग का उपयोग करते हैं। -----------------

तीन माह से अटका प्रस्ताव

¨सचाई विभाग ने गत अक्टूबर माह में स्लोब की सुरक्षा के लिए आरसीसी लाइ¨नग करने का प्रस्ताव शासन को भेजा था। तीन माह बीतने के बाद भी इस पर कोई ठोस पहल नहीं हो सकी। इसी के साथ नहर पर क्षतिग्रस्त बनौटा पुल किमी 133.800 पर नए पुल के निर्माण का 142.4 लाख रुपये की कार्ययोजना शासन को प्रेषित की गई, जो अभी लंबित है। अधिशासी अभियंता पंकज गौतम ने स्वीकार किया कि स्टाफ की कमी से प्रस्ताव की बेहतर पैरवी नहीं की जा सकी है। उम्मीद है कि इस वित्तीय वर्ष के समापन तक कार्ययोजना स्वीकृत हो जाएगी।

Posted By: Jagran