सुलतानपुर, संवाद सूत्र। टप्पेबाजी के मामले में करीब चौबीस घंटे तक हिरासत में रखे गए भाजपा आइटी सेल के संयोजक को आखिरकार विधायक के हस्तक्षेप के बाद शनिवार की देर रात छोड़ दिया गया। इससे पहले भाजपा विधायक और कार्यकर्ताओं ने पार्टी पदाधिकारी को हिरासत में थर्ड डिग्री टार्चर देने का आरोप लगाया था। जंजीर में बांधने का चित्र भी किसी ने प्रसारित कर दिया। हालांकि, इस गंभीर मामले में अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।

बीते शुक्रवार को बनके गांव निवासी ओमप्रकाश सिंह की बाइक की डिग्गी से साढ़े तीन लाख रुपये उड़ा दिए गए थे। इसकी शिकायत उन्होंने की तो पुलिस ने सीसी कैमरे की फुटेज खंगाली। कस्बे के निवासी आइटी सेल संयोजक शिवम सिंह को शक के आधार पर हिरासत में ले लिया। आरोप है कि उन्हें थाने में जंजीर से बांधकर रखा गया। साथ ही थर्ड डिग्री भी दी गई। बीते शनिवार की सुबह जानकारी हुई तो भाजपा नेताओं ने कोतवाली पहुंच विरोध दर्ज कराया।

शाम होते ही मामले ने तूल पकड़ लिया। विधायक राजेश गौतम ने कोतवाल अनिल कुमार सिंह को डाक बंगले में तलब कर जमकर फटकार लगाई। साथ ही हिरासत में रखने और टार्चर करने का कारण पूछा। मौके पर पहुंचे सीओ शिवम मिश्र ने उनसे काफी देर तक वार्ता की। इसके बाद न्याय संगत कार्रवाई का भरोसा दिया। देर रात उक्त पदाधिकारी को छोड़ दिया गया। स्थानीय पुलिस और अधिकारी पिटाई और टार्चर से इन्कार कर रहे, लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि सिर्फ संदेह के आधार पर क्या किसी को रात और दिन भर हिरासत में रखा जा सकता है? क्या जंजीर में बाधा जा सकता है?

गोसाईगंज कैसे पहुंच गए शिवम : विधायक की फटकार के बाद कादीपुर पुलिस ने देर रात शिवम को गोसाईगंज थाने में परिवारजन के सिपुर्द किया। अब सवाल यह भी उठ रहे कि कादीपुर पुलिस ने उठाया था तो वह दूसरे थाने में कैसे पहुंच गए।

करणी सेना ने दी आंदोलन की चेतावनी....: करणी सेना के जिला अध्यक्ष दीपक सिंह ने बताया कि हम लोग शिवम और कोतवाल से भी मिले। कोतवाल की बातें गोलमोल थीं। दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं की गई तो आंदोलन किया जाएगा।

पुलिस को नहीं होना चाहिए इतना बर्बर : विधायक राजेश गौतम का कहना है शिवम हमारी पार्टी में पदाधिकारी हैं। जिस बर्बरता से उनकी पिटाई की गई है, वह अक्षम्य है। पिटाई करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए मैंने पुलिस अधीक्षक से बात की है। पुलिस को इतना बर्बर किसी के लिए भी नहीं होना चाहिए।

सीओ बोले-बातों से संतुष्ट होने पर शिवम को छोड़ा गया : क्षेत्राधिकारी शिवम मिश्र ने बताया कि पूछताछ के लिए शिवम को बुलाया गया था। उनकी बातों से पुलिस संतुष्ट हुई तो छोड़ दिया। उन्होंने बताया कि पूछताछ के लिए गोसाईगंज भेजा गया था।

Edited By: Vrinda Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट