सुल्तानपुर, प्रख्यात कवि पं.रामनरेश त्रिपाठी की 50वीं पुण्य तिथि जिले में सोल्लास मनाई गई। उनके पैतृक आवास पर गोष्ठी एवं श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई। कादीपुर के संत तुलसीदास पीजी कालेज में विचार गोष्ठी के दौरान उन्हें राष्ट्रीय धारा का महत्वपूर्ण कवि बताया गया।

शहर के रुद्रनगर स्थित हिंदी मंदिर में रामनरेश त्रिपाठी स्मृति सेवा संस्थान के तत्वावधान में 'हे प्रभो आनंददाता ज्ञान हमको दीजिए..' सुपरिचित प्रार्थना के रचयिता प्रख्यात कवि एवं साहित्यकार पं.रामनरेश त्रिपाठी याद किए गए। सोमवार को अपराह्न स्व.त्रिपाठी के पुत्र जयंत त्रिपाठी के संयोजन में श्रद्धांजलि समारोह में आनंद प्रकाश कुंवर ने कहा देश की विभूति रहे रामनरेश त्रिपाठी ने सिर्फ साहित्य सर्जना ही नहीं की, बल्कि देशप्रेम से अभिभूत इस कवि ने राष्ट्रीय आंदोलन में भी बढ़चढ़ कर हिस्सेदारी की। महात्मा गांधी ने भी रामनरेश त्रिपाठी के राष्ट्रप्रेम को सराहा था। पूर्व सभासद कमल श्रीवास्तव ने कहा कि आज के साहित्यकारों के लिए प्रेरणा है रामनरेश त्रिपाठी का साहित्य। कादीपुर संवादसूत्र के अनुसार, डॉ.ओंकारनाथ द्विवेदी के संयोजन में संत तुलसीदास पीजी कालेज में संगोष्ठी आयोजित की गई। इसमें डॉ.आदित्य नारायण त्रिपाठी व डॉ.करुणेश भट्ट ने उन्हें लोक जीवन का असाधारण कवि बताया। इस अवसर पर डॉ.अंबिका प्रसाद मिश्र, डॉ.जितेन्द्र तिवारी, डॉ.सुशील पांडेय आदि मौजूद रहे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप