सुलतानपुर : श्रम संगठनों की राष्ट्र व्यापी हड़ताल का व्यापक असर रहा। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के बैनर तले भारतीय स्टेट बैंक को छोड़कर संगठन से जुड़े अधिकांश बैंकों के कर्मी हड़ताल पर रहे। इससे बैंक का कामकाज प्रभावित रहा। फोरम का दावा है कि हड़ताल के चलते तकरीबन 170 बैंक शाखाओं के कर्मी काम पर नहीं गए। इसके चलते तकरीबन 70 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है।

हड़ताली बैंक कर्मियों ने यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के जिलाध्यक्ष अशोक शुक्ला के नेतृत्व में सुबह दस बजे से स्टेट बैंक पर एकत्रित होकर अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की नीतियां गरीब, किसान और मजदूर विरोधी हैं। केंद्र सरकार कॉरपोरेट परस्त है। निजीकरण की नीति पर चल रही है। इसका श्रमिक संगठन एकजुट होकर विरोध करेंगे। हड़ताली कर्मी जुलूस की शक्ल में नगर की विभिन्न शाखाओं पर जाकर समर्थन की मांग की। डाकखाना पहुंचने पर भारतीय दूर संचार निगम इंपलाइज यूनियन के सदस्यों ने जिला सचिव एचएस मिश्र व डाकखाना संघ के दिलीप तिवारी के नेतृत्व में जुलूस में शामिल हुआ। प्रधान डाकघर के सामने डाककर्मियों के संघ से जुड़े पदाधिकारी आलोक सिंह, ग्रामीण बैंक के अरुण सिंह, यूपी एंड उत्तराखंड मेडिकल एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष अनुराग तथा बिजली और पोस्टल यूनियन के दर्जनों कर्मचारी हड़ताल में शामिल हुए। हड़ताली कर्मियों ने वित्त मंत्री को संबोधित ज्ञापन बैंक ऑफ बड़ौदा के क्षेत्रीय मैनेजर को सौंपा। फोरम के महामंत्री शिवकरन द्विवेदी ने बताया कि श्रम संघों की सभी मांगों का पूरा समर्थन करते हुए बैकिग से जुड़ी अन्य कर्मचारी यूनियनों ने भी हड़ताल को समर्थन दिया है। उधर, बीमा कर्मचारी संघ अयोध्या डिवीजन के पदाधिकारियों ने भी हड़ताल को समर्थन दिया है। इकाई के अध्यक्ष इंद्रदेव पाठक सहित अन्य पदाधिकारियों ने हड़ताल में सक्रिय भागीदारी की। ज्ञापन देने वालों में आनंद तिवारी, रामकृष्ण पांडेय, श्रीदत्त राजेश सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप