सुलतानपुर : कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए टीकाकरण के पांचवें फेज की तैयारी जोरों पर है। 18 से 44 साल के युवाओं को टीके से लाभांवित करने के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। वहीं, चौथे चरण में ही टीकाकरण के लिए डोज का अभाव दिखने लगा है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि जरूरत के हिसाब से टीके की मांग शासन से की गई, जल्द ही प्राप्त होने की संभावना जताई जा रही है।

प्रतिरोधक क्षमता का विकास कर कोरोना व अन्य संक्रामक बीमारियों से लड़ने के लिए लोगों को कोविड का टीका लगाया जा रहा है। पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण कर शुरू किए गए अभियान के तहत अब चौथे चरण में 45 साल से अधिक के उम्र के लोगों को टीका लगाया जा रहा है। इससे पहले हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर व 60 साल से ऊपर के लोगों को टीके से लाभांवित किया जा चुका है।

पूर्व के चरणों में छूटे व्यक्ति व 45 से अधिक के लोगों को कोविशील्ड व कोवैक्सीन का टीकाकरण अभी भी जारी है। मांग के अनुरूप टीके की प्राप्ति न होने से कई दिन अभियान को रोकने की भी नौबत बन गई थी। कई बार तो टीके की संख्या कम होने के चलते सत्रों में कटौती करनी पड़ी। वर्तमान में स्वास्थ्य विभाग के पास 3110 कोवैक्सीन व 7310 कोविशील्ड कंपनी की वैक्सीन बची हुई है, जबकि शुक्रवार को 41 सेंटरों पर टीका लगाया जाना है।

इस चरण के बाद यदि वैक्सीन की प्राप्ति नहीं हुई तो अगले दिन अभियान पर असर दिखना शुरू हो जाएगा। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. एएन राय ने बताया कि अभियान के तहत अब तक 130175 लोगों को पहली व करीब 33885 व्यक्तियों को टीके की दूसरी डोज दी जा चुकी है। भविष्य की योजनाएं तैयार की जा रही हैं, कितने लोगों को टीका लगाया जाएगा इसका पता पंजीकरण कार्य पूरा होने के बाद ही चल सकेगा।