जागरण संवाददाता, कोन (सोनभद्र) : स्थानीय के ग्राम पंचायत बागेसोती के सिघा में एक अफवाह से ग्रामीणों ने दर्जनों ट्रैक्टर सूखे व हरे पेड़ों काट डाला। इस बात की खबर विभागीय अधिकारियों को मिलते ही वनक्षेत्राधिकारी, एसडीओ और भारी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची तो काटे गए पेड़ों को छोड़कर ग्रामीण भाग निकले। कुछ लोगों ने पूरे गांव में यह कहते हुए अफवाह फैला दी कि जिसे भी लकड़ी की जरूरत हो आज भर में अपनी जरूरत की लकड़ी काट सकता है, यह छूट सिर्फ आज तक ही रहेगी। यह अफवाह पूरे गांव में आग की तरह फैली। ऐसे में देखते ही देखते गांव के लोग हाथ में कुल्हाड़ी लिए सिघा के जंगल में पहुंच गए और सूखे व हरे पेड़ों की कटान शुरू कर दिए। सभी लोग अपने अपने जरूरतों के हिसाब से अपनी अपनी पसंद की पेड़ व उसकी टहनियां काटने लगे। देखते ही देखते सूखे व हरे दर्जनों ट्रैक्टर टहनियां व पेड़ काट दिए। इस मामले में बीट प्रभारी का कहना है कि जब ग्रामीणों द्वारा भारी संख्या में पेड़ों को काटने की खबर मिली तो मैं तत्काल ही मौके पर पहुंचा। ग्रामीणों को पेड़ों की कटाई करने से मना किया तो वे उल्टा हमें ही गाली-गलौज देते हुए गलत तरीके से फंसाने की धमकी देने लगे। इसके बाद हमने अपने उच्चाधिकारियों को सूचना दी। वहीं जब एसडीओ, वन क्षेत्राधिकारी और भारी संख्या में पुलिस फोर्स पहुंची तो लकड़ी छोड़ ग्रामीण भाग निकले।

वन क्षेत्राधिकारी संजय माथुर का कहना है कि जैसे ही सूचना मिली की कुछ लोगों द्वारा गलत अफवाह फैलाएं जाने के कारण भारी संख्या में पेड़ों की कटान की गई है तो हमलोग आधे घंटे के अंदर ही मौके पर पहुंचे और वहां देखा की ग्रामीणों ने दर्जनों ट्रैक्टर सूखे व हरे सिद्ध की लकड़ी को काट दिए हैं। इसे जब्त करते हुए रेंज ऑफिस लाया गया है। उन्होंने कहा कि दोषियों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran