जागरण संवाददाता, सोनभद्र : ग्रामीण व सुदूर इलाकों में भी सुविधाएं बढ़ाने के लिए डाक विभाग की तरफ से काम तेज कर दिया गया है। डाक सेवा के विस्तार को लेकर पहल तेज कर दी गई गई है। जनपद में जल्द ही दो नए उप डाकघर खुलेंगे। इसके लिए विभाग की तरफ से शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। यहां से हरी झंडी मिलते ही लोगों को गांव के पास ही सुविधाएं मिलना शुरू हो जाएगी।

जनपद में वर्तमान में राबर्टसगंज में उप मुख्य डाकघर के साथ घोरावल, राजपुर, चोपन, दुद्धी, चतरा ब्लाक मुख्यालय सहित कुल 24 उप डाकघर संचालित हैं। वहीं 132 शाखा डाक घर का संचालन किया जा रहा है। ग्राम पंचायतों के मुकाबले डाक घरों की कम संख्या होने के कारण डाक सेवाओं की आसान पहुंच लोगों तक नहीं हो पा रही है। इसके चलते लोगों को डाक विभाग की तरफ से संचालित जरूरी सुविधाएं नहीं मिल पाती है। इसको देखते हुए डाक विभाग की तरफ से म्योरपुर व बभनी ब्लाक के लिए नए डाकघर खोलने के लिए प्रस्ताव बनाकर लखनऊ भेजा जा चुका है। पांच ब्लाक डाक विभाग की सुविधाओं से अछूता

जनपद के 10 ब्लाकों में से पांच ब्लाक अभी डाक विभाग की जिला स्तरीय सुविधाओं से अछूते हैं। अभी तक राब‌र्ट्सगंज, घोरावल, चोपन, दुद्धी व चतरा ब्लाक में ही उप डाकघर संचालित हो रहे हैं। स्थिति को देखते हुए उच्च स्तर से जिले के सभी ब्लाक मुख्यालयों को उप डाकघर की सेवा से जोड़ने का निर्णय लिया गया है। इसी को लेकर म्योरपुर और बभनी में स्थल का चयन करते हुए उप डाकघर संचालित करने का प्रस्ताव लखनऊ स्थित मुख्य कार्यालय को भेज दिया गया है। मंजूरी मिलते ही उप डाकघर संचालन प्रक्रिया आगे बढ़ा दी जाएगी। तीन ब्लाकों का और प्रस्ताव भेजने की तैयारी

म्योरपुर-बभनी के अलावा दुर्गम क्षेत्र की पहचान रखने वाले नगवां ब्लाक के साथ ही नवसृजित करमा और कोन ब्लाक में भी उप डाकघर के प्रस्ताव को लेकर विभाग की तरफ से तैयारी जारी है। जैसे ही लखनऊ स्थित मुख्य कार्यालय से उसको मूर्त रूप देने की हरी झंडी मिलेगी। वैसे ही प्रस्ताव मंजूरी के लिए भेज दिया जाएगा। इन क्षेत्रों में अभी ग्रामीण डाकघर वाली ही सुविधा उपलब्ध है।

कोट..

म्योरपुर व बभनी ब्लाक में उप डाकघर खोले जाने के लिए प्रस्ताव बनाकर मार्च में ही भेज दिया गया है। मंजूरी मिलते ही उप डाकघर खोलने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इसके अलावा कोन, करमा व नगवां ब्लाक में भी उप डाकघर की स्थापना के लिए प्रस्ताव बनाया जा रहा है।

- मनीष कुमार सिंह, डाक निरीक्षक।

Edited By: Jagran