जागरण संवाददाता, सोनभद्र : जिले की चारो तहसीलों में शनिवार को संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया गया। इस बार भी हर बार की तरह समस्याओं का मौके पर निस्तारण की रफ्तार काफी कम रही। सम्पूर्ण समाधान दिवस में शासन के निर्देशानुसार सभी अधिकारियों ने जनता की समस्या को सुना। मुख्य समाधान दिवस घोरावल तहसील में किया गया। यहां पर जिलाधिकारी अभिषेक सिंह व पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने जनता की समस्याओं को सुना। जिलाधिकारी अभिषेक सिंह व पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रतास सिंह ने इस दौरान 86 फरियादियों के दु:ख-दर्द को सुना। मौके पर महज पांच मामले निस्तारित किए गए। शेष बचे 81 प्रकरणों को समयबद्ध तरीके से निस्तारित करने के निर्देश संबंधितों को दिया गया। इस मौके पर सीडीओ डा. अमित पाल शर्मा, एसडीएम सुशील कुमार यादव आदि रहे।

अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह ने राब‌र्ट्सगंज तहसील में जनता की समस्या को सुना। उन्होंने पुराने लंबित प्रकरणों के निस्तारण की गुणवत्ता के बनाये रखने की ताकीद करते हुए मौजूद कार्मिकों को निर्देशित किया। उन्होंने मौके पर 47 मामलों को सुनते हुए मौके पर चार मामले निस्तारित किये। शेष बचे 43 प्रकरण को तय समय पर हल करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया। इस मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार, तहसीलदार बीके वर्मा आदि रहे। दुद्धी तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस की अध्यक्षता उप जिलाधिकारी रमेश कुमार ने किया। श्री रमेश कुमार ने मौके पर मौजूद तहसील स्तरीय अधिकारियों को समय-सीमा के अंदर समस्याओं के निस्तारित करने को कहा। उन्होंने कुल 39 मामलों को सुनते हुए मौके पर छह मामले निस्तारित किये। बाकी बचे 33 मामलों को औपचारिकताओं को पूरा करते हुए समयबद्ध तरीके से निस्तारित करने पर जोर दिया गया। ओबरा तहसील में उप जिलाधिकारी जैनेंद्र की अध्यक्षता में सम्पूर्ण दिवस का आयोजन किया गया। इस मौके पर उप जिलाधिकारी ने लंबित प्रकरण निस्तारण पर जोर दिया। उन्होंने कुल सात मामलों को सुनते हुए मौके पर दो मामलों को निस्तारित किया। बाकी बचे पांच मामलों को औपचारिकताओं को पूरा करते हुए निस्तारित करने को कहा।

Edited By: Jagran