जागरण संवाददाता, अनपरा (सोनभद्र) : अनपरा तापीय परियोजना की 500 मेगावाट की छठवीं इकाई से बुधवार को बिजली उत्पादन बंद हो गया। अनपरा-डी की इस पहली यूनिट के ब्वायलर ट्यूब में लीकेज के कारण उत्पादन बंद करना पड़ा है। इसे ठीक होने में कम से कम दो दिन का समय लगेगा। तब तक 2630 मेगावाट की अनपरा परियोजना की तीनों परियोजनाओं से 500 मेगावाट कम बिजली का उत्पादन होगा। बारिश में आई कमी से बिजली की मांग में तेजी आई है और इस बीच 500 मेगावाट की इकाई बंद होने से उत्पादन निगम की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

इकाई के ब्वायलर ट्यूब में बुधवार को लीकेज हो गया। जिस कारण सुबह 10 बजकर 43 मिनट पर इस यूनिट से उत्पादन बंद करना पड़ा। मेंटेनेंस विभाग के अधिकारी और कर्मचारी तत्काल मौके पर पहुंच गये लेकिन तापमान बहुत ज्यादा होने के कारण कुछ काम नहीं सका। अब जब तक ब्वायलर ट्यूब ठंडा नहीं होगा और उसकी धुलाई नहीं होगी तब तक कोई काम नहीं हो सकता है। इसे ठीक करने में कम से कम दो दिन का समय लगेगा। जब तक अनपरा की तापीय परियोजनाओं से 500 मेगावाट कम उत्पादन होगा। वहीं बिजली की मांग प्रदेश में दो बजे तक 11000 मेगावाट के आसपास घूमती रही। हालांकि पीकआवर में यह 15000 मेगावाट तक पहुंच गई। बिजली की मांग में आई कमी के कारण उत्पादन निगम ने कई परियोजनाओं को बंद रखने का निर्देश दिया है, जबकि अन्य कई परियोजनाओं से न्यूनतम उत्पादन किया जा रहा है। हालांकि गत तीन दिनों से पूरे प्रदेश की परियोजनाओं से जमकर थर्मल बै¨कग हो रही थी, लेकिन अनपरा को थर्मल बै¨कग से मुक्त रखा गया था। जिस कारण यहां की सभी परियोजनाएं पूरी क्षमता से उत्पादन कर रहीं थीं, लेकिन बुधवार को अनपरा-डी की पहली यूनिट में तकनीकी खराबी के कारण इससे उत्पादन बंद करना पड़ा है। ऐसे में प्रदेश की बाकी परियोजनाओं से बिजली का उत्पादन बढ़ाये जाने की संभावना है।

Posted By: Jagran