जासं, सुकृत (सोनभद्र) : गत पांच दिनों तक तीनताली मोहल्ले में अधिकारियों का आना-जाना ग्रामीणों को पचा नहीं। प्रशासन द्वारा कराये गये कामों को लेकर बुधवार को ग्रामीणों ने जमकर आक्रोश व्यक्त किया। मोहल्ले में सभी घरों में शौचालय बनने पर सहमति तो दर्ज की लेकिन, दूसरी व्यवस्थाओं को लेकर जमकर कोसा भी।

पूर्व नियोजित अपने कार्यक्रम के तहत बुधवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बहुअरा के तीनताली मोहल्ले में पहुंचे। यहां उनके पहुंचने से पूर्व ही मुसहर बिरादरी के लोगों को घरों में कैद कर दिया गया। ग्रामीण महेंद्र व मराठू सहित कई लोगों ने बताया कि मुख्यमंत्री को यहां आने की कोई जरूरत ही नहीं थी। अगर हमें घरों में कैद ही कराना था तो मोहल्ले में मुख्यमंत्री को आने की जरूरत ही क्या थी। बता दें कि इस मोहल्ले में लगभग 30 घर मुसहर बिरादरी की है। आबादी लगभग 150 की है। ग्रामीणों ने बताया कि मुख्यमंत्री को मुसहर बिरादरी के लोगों से मिलना चाहिए था। हम अपनी समस्याएं स्वयं रखते। मोहल्ले की स्थिति यह है कि अभी तक एक भी बच्चा ऐसा नहीं जो हाईस्कूल पास हो। इतनी बड़ी आबादी में मात्र तीन हैंडपंप हैं। गर्मी के मौसम में अभी भी टैंकर के पानी के भरोसे रहना पड़ता है। बिजली के मीटर लगा दिये गये हैं। बिल के लिए परेशान किया जाता है। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुसहर बस्ती में पहुंचकर सिर्फ दो लोगों से आवास व राशन कार्ड की जानकारी ली।

Posted By: Jagran