जासं, अनपरा (सोनभद्र) : लंबे समय से ऊर्जाचल में उठाई जा रही आवाज के बावजूद वाराणसी-शक्तिनगर मुख्य मार्ग पर उड़ रही धूल से नागरिकों को निजात नहीं मिल पा रही है। धूल के कारण जहां आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं वहीं लोग श्वांस संबंधी विभिन्न बीमारियों के भी शिकार हो रहे हैं। औड़ी-शक्तिनगर एवं औड़ी-सिगरौली मुख्य मार्ग पर सड़क दुर्घटनाओं में अनगिनत लोग मौत के मुंह में समा चुके हैं। सड़क की पटरियों पर वर्षों से एकत्र कोयले की गर्द को नहीं हटाया गया है।

समुचित पानी का छिड़काव नहीं होने से उड़ रही धूल का सिलसिला निरंतर जारी है। जगह-जगह सड़क गड्ढे में तब्दील हो गई है। इस सड़क से गुजरना किसी भी दशा मे जानलेवा बना हुआ है। सबसे ज्यादा बुरा हाल विद्यालय जाने वाले बच्चों का है। वे सड़क पर आते ही रूमाल से नाक-मुंह ढक लेते है। परिजनों द्वारा भी उन्हें चेहरा ढककर आने-जाने की सलाह दी जाती है। फिर भी बच्चे धूल के कारण एलर्जी समेत विभिन्न बीमारियों की जद में आ जा रहे है। लोगों का कहना है कि इस समस्या का निदान फोरलेन सड़क निर्माण ही है, लेकिन निर्माण कार्य की गति को देखकर लगता है कि तय समय सीमा में सड़क निर्माण नहीं हो पाएगा। जर्जर सड़क से आए दिन वाहन खराब होकर बीच सड़क पर ही खड़े हो जाते है। इससे वहां अक्सर जाम लगा रहता है। जाम के दौरान उड़ती धूल से लोगों का जीना और मुहाल हो जाता है। औड़ी से शक्तिनगर 18 किमी. की यात्रा करना काफी दुरूह हो गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस