सोनभद्र (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश के साथ ही बिहार व झारखंड को बिजली देने वाली ओबरा थर्मल पावर प्रोजेक्ट में आज बड़ी आग लग गई। आग ने धीरे-धीरे भयावह रूप लिया है। वहां पर फायर बिग्रेड के एक दर्जन वाहन आग बुझाने में लगे हैं।

सोनभद्र में ओबरा तापीय परियोजना के तापघर के स्वीच गियर के केबिल यार्ड में लगी आग ने भयावह रूप धारण कर लिया है। आज तड़के करीब पांच बजे लगी इस आग के बारे में यहां के प्रशासन को जानकारी सुबह करीब छह बजे लगी। परियोजना के अधिकारियों को इसकी जानकारी सुबह छह बजे आग के भयानक रूप लेने पर हुई। यह आग सतह से नीचे माइनस चार में लगी है। लिहाजा उसे बुझाने में भारी मशक्कत हो रही है।

यहां पर आग ने धीरे-धीरे निचले सभी हिस्सों में पहुंचते हुए 200 मेगावाट की 9, 10, 11, 12,13 वीं इकाई को चपेट में ले लिया है। इस आग के कारण यहां पर उत्पादनरत परियोजना की 200 मेगावाट की सभी इकाइयां बंद हो गई हैं। सवा आठ बजे तक सीआइएसएफ अग्निशमन दल आग बुझाने के प्रयास में जुटा है। मौके पर उत्पादन निगम के उच्चाधिकारियों सहित डीएम भी मौके पर पहुंच गये हैं। 

आग बुझाने का प्रयास जारी

ओबरा तापीय परियोजना के स्वीच गियर में लगी आग के लगातार बढ़ने पर जनपद के अन्य परियोजनाओं से भी सीआइएसफ के अग्निशमन शमन दल को मौके पर बुलाया गया है। इसके साथ ही जनपद की फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी मौके पर पहुंच गयी हैं। आग बुझाने में फायर ब्रिगेड के लोग लगे हैं। जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने बताया कि आग पर काबू पाने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है।

जल्द ही आग पर काबू पा लिया जाएगा। बताया कि बालू, पानी व फोम डालकर स्वीच गियर की केबिल गैलरी तक पहुंची आग को रोकने का प्रयास किया जा रहा है। परियोजना को पूरी तरह बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही परियोजना के लोगों को बाहर कर दिया गया है। बताया कि अभी तक किसी के हताहत होने की कोई रिपोर्ट नहीं आई है। सीआइएसफ के जवान लगातार आग पर काबू पाने में लगे हैं। इसके साथ रहे मौके पर मौजूद रहकर स्थिति पर नजर रखी जा रही है।

प्रभावित हो सकता है 800 मेगावाट बिजली का उत्पादन

ओबरा तापीय परियोजना के स्वीच गियर में लगी आग के निरंतर बढ़ने के कारण से केबिल गैलरी पूरी तरह से नष्ट होने के कगार पर पहुंच गई है। आग के परियोजना के माइन्स 4 तक पहुंच जाने से केबिल जल गई है। जिससे परियोजना को करोड़ों रुपये की क्षति उठानी पड़ेगी। इसके साथ हीै स्थिति को नियंत्रित करने तक परियोजना से बिजली उत्पादन पूरी तरह से बंद रहेगा। इससे प्रदेश में बिजली का संकट बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। ओबरा परियोजना से उत्पादन बंद होने के चलते 800 मेगावाट का विद्युत उत्पादन प्रभावित रहेगा।

Posted By: Dharmendra Pandey