मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जासं, सोनभद्र : खाकी के एक कारनामे ने पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालियां निशान लगा दिया है। एनडीपीएस एक्ट के एक वारंटी की जगह निर्दोष व्यक्ति को गिरफ्तार कर उसका चालान कर दिया गया। यह मामला प्रकाश में आने के बाद सभी हैरत में हैं। न्यायालय ने भी मामले को गंभीरता से लिया है और जमानत पर सुनवाई के दौरान राब‌र्ट्सगंज पुलिस चौकी प्रभारी को तलब किया है।

अधिवक्ता रोशन लाल यादव के मुताबिक जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में एनडीपीएस एक्ट का एक मामला विचाराधीन है। इस मामले का आरोपित राब‌र्ट्सगंज नगर पालिका के वार्ड एक निवासी अनिल पुत्र शिवदारी के खिलाफ न्यायालय से वारंट जारी हुआ। पुलिस वास्तविक आरोपित को पकड़ने में नाकाम रही। राब‌र्ट्सगंज पुलिस चौकी प्रभारी के नेतृत्व वाली टीम 15 अगस्त की रात वार्ड नंबर दो हर्षनगर निवासी अनिल पुत्र देवधारी के घर में दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद उसका चालान कर दिया गया। न्यायिक हिरासत में अनिल पुत्र देवधारी को जेल भी भेज दिया गया। वास्तविक आरोपित की जगह निर्दोष को गिरफ्तार करने के मामले में अधिवक्ता रोशन लाल यादव ने न्यायालय में अनिल की जमानत अर्जी पेश करने के बाद पूरी पत्रावली का अध्ययन किया। बताया कि इस मामले के न्यायाधीश ने चौकी प्रभारी व जेल में बंद निर्दोष अनिल को 19 अगस्त को न्यायालय में तलब किया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप