जागरण संवाददाता, सोनभद्र : शुरूआत में मौसम की मार और बाद में सिस्टम में खामियों की मार झेलने वाले अन्नदाता परेशान हैं। किसी तरह से धान का उत्पादन करने वाले किसानों ने क्रय केंद्रों पर पहुंचकर धान तो बेच दिया लेकिन अब उनके भुगतान को लेकर समस्या होने लगी है। दिसंबर में जिन किसानों ने धान बेचा था उनका अबतक भुगतान नहीं हुआ है। ऐसे में जिले के किसानों में इस व्यवस्था के प्रति नाराजगी है। भारतीय किसान संघ काशी प्रांत के पदाधिकारियों ने शनिवार को जिलाधिकारी से मिलकर उन्हें ज्ञापन दिया। कहा कि 21 फरवरी तक बकाए का भुगतान नहीं हुआ तो 22 फरवरी को सड़क जाम करके आंदोलन तेज कर देंगे।

एक नवंबर से जिले में धान की खरीद शुरू हुई तो कई केंद्रों पर कभी बोरा का अभाव तो कहीं अन्य खामियों के कारण व्यवधान आता रहा। हालांकि इन सभी से दो-चार होते हुए किसानों ने धान बेचा। किसान संघ के जिलाध्यक्ष राजबहादुर सिंह ने कहा कि धान तो किसी तरह से खरीद लिया गया लेकिन कइयों का भुगतान बाकी है। हाल यह है कि किसी के घर बेटी की शादी पड़ी है तो किसी को अपने बच्चे का फीस जमा करना है। किसानों का सभी कार्य प्रभावित हो रहा है। अधिकारियों के दफ्तर में पहुंचकर अनुरोध करते करते अब थक चुके हैं। कहा कि पहले भी इस मामले में कई बार शिकायत की गई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। कई क्रय केंद्रों पर तो अभी भी किसान धान लेकर खड़े हैं। केंद्रों पर पोर्टल बंद होने की बात कहकर वापस किया जा रहा है। प्रतिनिधिमंडल में शामिल पदाधिकारियों ने कहा कि अगर समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो 22 फरवरी को मीरजापुर रोड पर सड़क जाम कर आंदोलन किया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में फूलचंद्र सिंह पटेल, नित्यानंद द्विवेदी, रणजीत सिंह आदि मौजूद थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस