जासं, अनपरा (सोनभद्र) : भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे मेक इन इंडिया अभियान के तहत एनसीएल अपने खनन परिचालन में पूरी तरह से स्वदेशी रूप से विकसित व निर्मित इलेक्ट्रिक डंप ट्रक (डंपर) तैनात करेगी। इस डंपर का निर्माण भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (बीईएमएल) द्वारा किया गया है। 205 टन क्षमता के साथ यह डंपर एनसीएल में तैनात सबसे अधिक क्षमता वाला डंपर होगा। मैसूर में आयोजित एक कार्यक्रम में एनसीएल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध (सीएमडी) पीके सिन्हा और बीईएमएल के सीएमडी दीपक कुमार होता ने नवनिर्मित इलेक्ट्रिक डंपर को हरी झंडी दिखाकर उसका शुभारंभ किया। कार्यक्रम में एनसीएल के निदेशक (तकनीकी/संचालन) गुणाधर पांडेय और महाप्रबंधक (उत्खनन) एससी वत्स भी उपस्थित थे। बीएच-205-ई माडल का यह डंपर विशाल खुली खदानों में परिचालन के लिए एक इलेक्ट्रिक ड्राइव रीयर डंप ट्रक है। यह डंपर टियर-ढ्ढढ्ढ उत्सर्जन मानकों का अनुपालन करता है और इसकी कार्यप्रणाली पर्यावरण के अनुकूल है। 2300 हार्स पावर (एचपी) वाले इलेक्ट्रॉनिक इंजन और आलटरनेट करेंट (एसी) ड्राइव के चलते यह डंपर कम मेंटेनेंस (रख-रखाव) के साथ हाल रोड पर असाधारण प्रदर्शन करने की क्षमता रखता है। डंपर के आसान एवं सुरक्षित परिचालन के लिए इसमें आपरेटर के लिए विशेष रूप से डि•ाइन किए गए आधुनिक डैश-बोर्ड, सीट, आपातकालीन स्टीय¨रग, ब्रे¨कग और निकटतम चेतावनी यंत्र लगाये गये हैं। एनसीएल ने हाल ही में 100 टन क्षमता के 103 डंपरों की खरीद का ऑर्डर दिया है। इस आर्डर की पहली खेप में कंपनी को आठ डंपरों की सप्लाई की गई है। जिनमें से 6 की कमीश¨नग निगाही परियोजना में व 2 की कमीश¨नग अमलोरी परियोजना में कर राष्ट्र को समर्पित किया गया।

Posted By: Jagran