जागरण संवाददाता, सोनभद्र : शांत व स्थिर भावभंगिमा के धनी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को जनपद के तीसरे दौरे पर बदले-बदले नजर आये। सीएम का कार्यक्रम तय होने के बाद गत तीन दिनों से स्कूल व मुसहर बस्ती को चाक-चौबंद बनाने के लिए जहां जिला प्रशासन ने दिनरात एक किया हुआ था, उसकी पोल कुछ पल के अंदर ही खुल गई। मंच पर संचालन की जिम्मेदारी संभाल रहे शिक्षक दीनबंधु त्रिपाठी द्वारा बनाये गये कार्यक्रम के लिस्ट के अनुसार अतिथियों को बुलाने पर मुख्यमंत्री ने आपत्ति दर्ज कराते हुए ही मंच पर भड़क गये। सीएम के सख्त तेवर देखकर प्रमुख सचिव ने तत्काल संचालक दीनबंधु त्रिपाठी को मंच से उतर जाने को कहा।

सूत्रों के मुताबिक प्रभारी मंत्री के संबोधन से संबंधित लिस्ट को देखकर मुख्यमंत्री ने प्रमुख सचिव से कहा कि वह सिर्फ आभार व्यक्त करेंगी, लेकिन इसके बाद भी संचालक द्वारा एमएलसी को संबोधन के लिए बुलाया गया। इसके बाद मुख्यमंत्री मंच से ही संचालक पर भड़क गये। सीएम के मूड को भांपते हुए तत्काल प्रमुख सचिव अवनीश अवस्थी ने संचालक दीनबंधु त्रिपाठी को मंच से नीचे उतार दिया। अपना संबोधन समाप्त करने के बाद सीएम सीधे मुसहर बस्ती के लिए निकल पड़े। घर के बाहर खड़े छोटे बच्चों को देखकर सीएम ने उनसे पूछा कि आप लोग स्कूल नहीं जाते क्या। इस पर पर बच्चों ने ना में जवाब दिया। इसके लिए बीएसए पर नाराजगी जतायी। मुसहर बस्ती के लोगों ने सीएम को अपने बीच पाकर उनसे शिकायतों की झड़ी लगा दी। ग्रामीणों की बात सुन मुख्यमंत्री ने साथ चल रहे प्रमुख सचिव से सभी बातों को नोट करने का निर्देश दिया। इस दौरान पत्रकारों के सवाल मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं में लापरवाही बरतने वालों पर सख्त कार्रवाई की जायेगी। कहा कि मैं पिछली बार के दिये गये अपने लक्ष्य के पूर्ति की समीक्षा करने आया हूं।

Posted By: Jagran