जागरण संवाददाता, सोनभद्र : कोरोना महामारी के चलते अक्षय तृतीया पर इस बार सराफा का बाजार को धार नहीं मिलेगी। पिछले साल की तरह इस बार भी अक्षय तृतीया पर सराफा दुकानें बंद रहेंगी। पिछले साल लाकडाउन था तो इस साल 17 मई तक कोरोना क‌र्फ्यू है। ऐसे में 14 मई को अक्षय तृतीया के दिन भी दुकानें व शोरूम बंद रहेंगे। सराफा कारोबारियों के अनुसार, पिछले साल तो कुछ दुकानदारों ने आनलाइन बिक्री भी की थी, लेकिन इस बार वैसी कोई मांग भी बाजार में नहीं दिख रही है। अप्रैल से लेकर मई अब तक कई लोगों ने जान गंवा दी। परिवार में शोक और दुख है तो ऐसे में कोई बहुत मांग भी नहीं कर रहा है। मान्यता के अनुसार अक्षय तृतीया पर सोना आभूषणों की खरीदारी शुभ मानी जाती है। बोले सराफा व्यापारी..

कोरोना ने दूसरी बार अक्षय तृतीया पर असर डाला है। शादी व अक्षय तृतीया लग्न दोनों ही कोरोना की भेंट चढ़ गए। कारखाने बंद हैं तो कारीगर भी अपने घरों को लौट गए। बाजार में आर्डर नहीं है। गलाई कारखाने पखवारे भर से बंद है।

-मिठाई लाल सोनी, अध्यक्ष सोनभद्र सराफा एसोसिएशन।

--------------------

बंदी के चलते कारोबार ठप है। मंदी की स्थिति है। अक्षय तृतीया पर भी बाजार बंद रहेंगे। अक्षय तृतीया पर दुकान प्रतिष्ठान खोलने की कोई योजना नहीं है। बताया कि दुकान खुल भी जाए तो कारीगर के नहीं रहने से डिजाइन, बाइंडिग समेत कोई काम नहीं हो पाएगा।

-जय कुमार केसरी, आभूषण व्यवसाई। पिछली बार भी दुकानें बंद थी तो कुछ रिटेलर कारोबारियों ने आनलाइन बिक्री की थी, लेकिन इस बार तो वह भी माहौल नहीं दिख रहा है। दो दिन बाद अक्षय तृतीया है लेकिन मांग कहीं से भी कुछ नहीं है। बहुत से कष्ट में सराफा कारोबार से जुड़े लोगों की स्थिति है, कारीगरों की हालत बहुत ज्यादा खराब है।

-सचिन केशरी, आभूषण व्यवसाई।

--------------------

पिछले दो सालों से अक्षत तृतीया पर कोरोना महामारी के चलते दुकानदारी चौपट हो गई है। इस बार उम्मीद थी कि दुकानदारी होगी, लेकिन अप्रैल महीने से कोरोना की दूसरी लहर ने अरमानों पर पानी फेर दिया है। कोरोना के चलते बंदी होने से दुकानें नहीं खुलेंगी।

-श्रीराम केसरी, आभूषण व्यवसाई।

Edited By: Jagran