जागरण संवाददाता, सोनभद्र : जिला बाल संरक्षण इकाई में कार्यरत एक कंस्ट्रक्शन एंड मैन पावर सप्लायर एजेंसी को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है। अनियमितता का मामला सामने आने के बाद एजेंसी को काली सूची में डाल दिया गया है। अब यह एजेंसी जिले के किसी भी विभाग में कार्य के लिए आवेदन नहीं कर सकेगी अगर करती भी है तो आवेदन स्वत: निरस्त मान लिया जाएगा।

जिला प्रोबेशन कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक जिला बाल संरक्षण इकाई में मैन पॉवर सप्लाई करने वाली एजेंसी द्वारा कई तरह की अनियमितता की गई थी। इसकी शिकायत हुई तो जिलाधिकारी ने जांच टीम गठित कर दिया। जांच सेवायोजन अधिकारी से करायी गई। जांच में पता चला कि एजेंसी द्वारा आरक्षण के नियमों की अवहेलना करते हुए नियुक्ति की गई है जबकि विभागीय शासनादेश के मुताबिक 20 फीसद पद एससी-एसटी के लिए आरक्षित हैं। इसके साथ ही एजेंसी द्वारा कार्मिकों का पीएफ भी नहीं काटा जा रहा है। जो टैक्स काटा जा रहा है उसको आयकर विभाग में जमा कराये जाने से संबंधित कोई अभिलेख भी जांच के दौरान प्रस्तुत नहीं किया गया। एजेंसी द्वारा मनमानी तरीके से कार्मियों को हटाना, नियुक्त, पद परिवर्तन भी पूर्व में कई बार किया गया लेकिन उसकी कोई सूचना नहीं दी गई। इसी तरह नियुक्त कंप्यूटर आपरेटर में से किसी के पास ओ-लेवल की सर्टिफिकेट नहीं है। सामाजिक कार्यकर्ता की नियुक्त अप्रैल 2014 में की गई तथा कार्मिक द्वारा पद की अर्हता 2015 में पूर्ण की गई। ऐसे में तमाम अनियमितताओं का मामला प्रकाश में आने पर जिलाधिकारी ने उक्त एजेंसी को ब्लैक लिस्टेट कर दिया है। उक्त एजेंसी कप्तानगंज जिला बस्ती की है। बोले अधिकारी..

तमाम तरह की अनियमितताएं मिलने की शिकायत पर जिलाधिकारी ने जांच करायी तो शिकायत सही पाई गई। ऐसे में कंस्ट्रक्शन एंड मैन पावर सप्लायर एजेंसी कप्तानगंज जिला बस्ती को काली सूची में डाल दिया गया है।

- राजनाथ राम, जिला प्रोबेशन अधिकारी-सोनभद्र।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस