जासं, खलियारी (सोनभद्र) : रायपुर थाना क्षेत्र के दरमा पहाड़ी पर गुरुवार की शाम असलहाधारी संदिग्धों के देखे जाने की खबर मिलते ही शुक्रवार को अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल अभयनाथ त्रिपाठी ने इलाके में पहुंचकर जायजा लिया।

क्षेत्र के लोगों से बातचीत कर उनकी गतिविधि के बारे में जानकारी ली गई तो पता चला कि पशु तस्करी का काम करने वाले हैं। इस मामले में उनकी गिरफ्तारी की कार्यवाही की जा रही है।

दरमा गांव की पहाड़ी पर गुरुवार को चार-पांच संदिग्ध असलहाधारी देखे गए थे। पुलिस ने जब उनका पीछा किया तो बिहार के जंगल में फरार हो गए। भागते समय एक असलहा भी फेंक दिए थे। उसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया है। असलहाधारी कौन थे, वहां क्या कर रहे थे इसकी जांच जब पुलिस ने शुरू की तो तह तक जाने के लिए अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल भी इलाके में पहुंचे। बिहार सीमा से सटे इलाके में हुई प्रारंभिक जांच में पता चला कि वे पशु तस्कर हैं। पड़ोसी राज्य बिहार के ही रहने वाले हैं। हालांकि यह सवाल सभी के दिमाग में चलता रहा कि अगर पशु तस्कर थे तो दिन में पहाड़ी पर क्या करने गए थे। जांच के दौरान रायपुर थाने के प्रभारी निरीक्षक कमलेश पाल भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस