जागरण संवाददाता, गुरमा (सोनभद्र) : वेलकप ग्राम पंचायत में स्थित बलुई बंधी टूटने से आस-पास के करीब एक दर्जन गांवों की तीन सौ हेक्टेयर से अधिक की भूमि जलमग्न हो गई है। इस इलाके के अस्सी फीसद जमीन पर रोपाई का कार्य किया जा चुका है। ऐसे में अगर पानी ज्यादा देर तक रहेगा तो फसल पूरी तरह से चौपट हो जायेगी। इधर, गांवों में लोगों के घरों में भी पानी घूस चुका है। ऐसे में यहां के लोग विद्यालयों व पंचायत भवन में शरण लिए हुए हैं।

वेलकप गांव में करीब डेढ़ किलोमीटर की परिधि में बनी बलुई बंधी के आस-पास करीब पांच सौ हेक्टेयर से अधिक की भूमि है। गुरुवार की सुबह करीब सवा नौ बजे महुआंव व बलुई के बीच बंधी टूट गई। कटान बढ़ती गई और शाम तक इससे करीब दो हजार क्यूसेक पानी निकलने लगा। तेजी से होते बहाव के कारण आस-पास के महुआंव कला, महुआंव खुर्द, वेलकप, रजधन, अदलगंज, केवटा, बघनारी, कम्हरिया, अदलगंज, लालगंज, गंगई, पइका, अतरवास, कोटिया, कुरुहुल, पटवध आदि गांवों में घुस गया। कुछ गांवों में लोगों की घरों में भी पानी घुसा तो कुछ गांवों में खेत तक ही पानी रहा। इससे करीब तीन सौ हेक्टेयर भूमि जलमग्न हो गई। इन गांवों को प्रशासन ने खाली करा दिया है। इस दौरान गांव के लोगों को बिड़ला इंटर कालेज पटवध, प्राथमिक विद्यालय पटवध व आदर्श महाविद्यालय सलखन के साथ ही पंचायत भवन पर शरण लिया है। शाम तक किसी तरह की जनहानि नहीं हुई थी। खतरे को भांपते हुए पूरा प्रशासनिक अमला गांव में ही कैंप किया हुआ है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस