जागरण संवाददाता, सोनभद्र : सौ बेड के जिला अस्पताल में अधिक रोगी भर्ती होने से व्यवस्था चरमरा जा रही है। ऐसा वाकया शुक्रवार की देर शाम सामने आया। अस्पताल में शुक्रवार को मानक से अधिक 34 मरीजों के आंख का आपरेशन होने से स्थिति डवांडोल हो गई। 25 से अधिक पुराने रोगी के अलावा शुक्रवार को आंख समेत विभिन्न रोगों के 87 रोगियों के भर्ती होने से बेड कम पड़ गए। कुछ रोगियों को जमीन पर तो कुछ को सीमेंट वाले बेंच पर लेटना पड़ा।

जिला अस्पताल में सप्ताह में चार दिन आंख के आपरेशन के लिए शिविर लगाया जाता है। मंगलवार, बुधवार, गुरुवार व शुक्रवार को लगने वाले शिविर में जिन रोगियों के आंख का आपरेशन होता है, उनका पहले से पंजीयन किया जाता है। शुक्रवार को स्थिति तब दयनीय हो गई जब मानक से अधिक 34 रोगियों के आंख का आपरेशन देर शाम तक चला। दिन में रोगियों के आंख का आपरेशन होता है उन्हें एक दिन अस्पताल में ही रोका जाता है। जिला अस्पताल में कुल बेड की संख्या 100 है। शुक्रवार को आंख के आपरेशन के 34 रोगियों के अलावा अन्य रोगों से पीड़ित 53 रोगियों को भर्ती किया गया। इसके अलावा 25 से अधिक पुराने रोगी पहले से भर्ती थे। इस तरह शुक्रवार की रात नौ बजे तक कुल 112 रोगी भर्ती कर लिए गए। जिससे बेड ही कम पड़ गए। इमरजेंसी में तैनात चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ को काफी परेशानियों को सामना करना पड़ा। कुछ रोगियों को सीमेंट की बेंच पर तो कुछ को जमीन पर लेटना पड़ा। सर्जन को किया गया निर्देशित

मंगलवार व बुधवार को क्रमश: 10 व 11 आंख के रोगियों का आपरेशन हुआ था। उससे कोई दिक्कत नहीं हुई। आंख के आपरेशन करने से पहले जिला अस्पताल प्रशासन से बेड के बारे में सर्जन को जानकारी करनी चाहिए। उसी के अनुसार आपरेशन के लिए रोगियों को बुलाना चाहिए। इस संबंध में संबंधित सर्जन को निर्देशित कर दिया गया है, ताकि आगे से किसी तरह की परेशानी न हो।

- डा. पीबी गौतम, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, जिला अस्पताल।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस