सीतापुर : कोरोना से सोमवार रात लखनऊ में इलाज के दौरान एक और व्यक्ति की मौत हो गई है। 45 वर्षीय मृतक अनूप मिश्र सिधौली कस्बे के गांधीनगर मुहल्ले के निवासी थे। अनूप पिछले एक सप्ताह से राजधानी के निजी अस्पताल में भर्ती थे। इनकी सोमवार को सैंपल जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। इससे पहले सोमवार देर शाम मृतक की मां गायत्री मिश्रा की मौत हो गई, पर इनकी मौत कोरोना संक्रमण से होने की पुष्टि नहीं हो पाई है। वहीं, सोमवार रात सीएमओ को प्राप्त सैंपलों की जांच रिपोर्ट में कोरोना के 77 नए रोगी मिले हैं। इसमें 25 महिला व 52 पुरुष रोगी हैं। बिसवां सीएचसी में 38 सैंपल एंटीजन से जांचे गए हैं। इनमें दो सैंपल पॉजिटिव मिले हैं। सेउता में गोविदापुर के सिडीकेट बैंक शाखा प्रबंधक को कोरोना हो गया है। पहला सीएचसी में मंगलवार को 55 लोगों में कोरोना की जांच हुई है। सभी सैंपल निगेटिव पाए गए हैं। सिधौली के गोविदनगर मुहल्ले में मेडिकल स्टोर संचालक के परिवार में तीन लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।

सिधौली सीएचसी में रात से दोपहर तक पड़ा रहा मृतका का शव

सिधौली : सीएचसी परिसर में पेड़ के नीचे चबूतरे पर बुजुर्ग महिला का शव रात से सुबह 10 बजे तक पड़ा रहा। वहीं महिला के शव के पड़ोस चबूतरे पर ही उसका बड़ा बेटा दयाशंकर मिश्र असहाय की तरह लेटा रहा। पूछने पर पता चला कि दयाशंकर मिश्र पैरों से दिव्यांग है। उधर, दयाशंकर मिश्र के छोटे भाई अनूप मिश्र की सोमवार रात को ही लखनऊ के अस्पताल में कोरोना से मौत हुई थी। मामला गांधीनगर मुहल्ले का है। यहां की 65 बुजुर्ग ज्ञानवती मिश्रा की तबियत खराब होने पर परिवारजन उन्हें सिधौली कस्बे के ही निजी अस्पताल में ले गए थे। निजी अस्पताल के डॉक्टर की सलाह पर घर वाले रात के 10 बजे गायत्री को सीएचसी ले गए थे। सीएचसी अधीक्षक डॉ. राकेश वर्मा ने बताया, बुजुर्ग महिला ज्ञानमती अस्पताल में ़मृत अवस्था में आई थी। महिला की मौत कोरोना से हुई या नहीं, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। उन्होंने बताया, सुबह 10 बजे मृतका के रिश्तेदार आकर उसका शव ले गए थे। अधीक्षक ने बताया, अब बुधवार को टीम भेजकर मृतका के परिवारजन व आसपास के लोगों का कोविड टेस्ट कराएंगे। बताया जा रहा है कि मृतका ज्ञानमती मिश्रा के दो बेटे हैं। इसमें दयाशंकर मिश्र व अनूप मिश्र थे। अनूप मिश्र पेशे से वकील थे।