हरगांव (सीतापुर) : सरायन नदी तट पर रुकनापुर के खैरपुर (मानिकपुर) में लिफ्ट कैलान के संबंध में शुक्रवार को 'दैनिक जागरण' के अंक में छपी खबर का बड़ा असर दिखा। गुरुवार को अधिशासी अभियंता से इस लिफ्ट कैलान की दुर्दशा का जिक्र करने के बाद उसी दिन देर शाम मौके पर सहायक अभियंता देवेंद्र कुमार वर्मा पहुंचे थे। फिर शुक्रवार सुबह करीब नौ बजे वे जेसीबी के साथ पट चुकी नहर की सफाई को झरिया गांव पहुंच गए थे। लंबे वर्षों बाद ये ²श्य देख ग्रामीण भी अचंभित थे।

नहर की टेल भाग के झरिया गांव के किसान सरदार बलवंत सिंह ने कहा, जो काम 25 साल में नहीं हुआ वह कार्य 'दैनिक जागरण' की खबर से शुक्रवार को हुआ है, हमें बहुत अच्छा लगा। इसी गांव के सरदार जसवंत सिंह बोले, अब हमें आशा जगी है कि पानी खेत तक पहुंचेगा, जबकि किसान अमरेंद्र सिंह, दिनेश सिंह व हीरालाल ने कहा लिफ्ट कैनाल की नहर पटकर चकमार्ग बन गई थी। उन सभी प्रभावित किसानों ने जिम्मेदारों को पता नहीं कितनी अर्जियां दी हैं पर सुनवाई नहीं हुई। धन्यवाद है 'दैनिक जागरण' का, जिसने समस्या सुलझवाई।

किसानों ने बताया कि, अब 25 साल बाद माल्टीनपुर, अख्तियारपुर, झरिया, दौलतपुर (आंशिक) गांव तक लिफ्ट कैनाल का पानी आएगा। वहीं, झरिया प्रधान प्रतिनिधि राम सागर लिफ्ट कैनाल की नहर खोदाई से निराश थे। बोले, हम किसानों का रास्ता बाधित हो गया है नहर पटी थी तो वे लोग उस पर गन्ना लेकर ट्रैक्टर-ट्रॉली व बैलगाड़ी आसानी से निकाल लेते थे। बोले, नहर खुदने से बड़ा नुकसान हुआ है। प्रधान प्रतिनिधि ने बताया, झरिया से रुकनापुर तक नहर खोदी जा रही है। कहा, जब नहर खोदी जा रही है तो सरायन नदी में पानी भी छोड़ा जाए। अब मार्च में इस नदी में पानी नहीं रह जाता है बारिश में ही पानी आता है तभी लिफ्ट कैनाल चालू हो पाती है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस