सीतापुर: तेज हवा और बारिश ने तीन जिदगियां समाप्त कर दी। अलग-अलग थाना क्षेत्रों में दीवार गिरने से महिला, युवक व अधेड़ की मौत हो गई। हादसे की जानकारी पर तहसील प्रशासन व पुलिस ने पड़ताल की। मृतकों के परिवारजन को आर्थिक सहायता मुहैया कराए जाने का आश्वासन दिया गया।

रामगढ़: संदना के गांव सरैंया निवासी 70 वर्षीय शीला देवी पत्नी झबलू गुरुवार रात कच्चे मकान में सो रही थी। देर रात कच्ची दीवार गिर गई और बुजुर्ग महिला उसके नीचे दब गई। ग्रामीणों ने महिला को दीवार के मलबे से बाहर निकाला। महिला को सीएचसी ले जाने को एंबुलेंस को फोन किया गया। परिवारजन का आरोप है कि एंबुलेंस समय से न पहुंचने के चलते महिला का समुचित उपचार नहीं हो सका। इसी वजह से महिला की मौत हो गई।

कमलापुर: अलग-अलग गांवों में दीवार गिरने से एक युवक की मौत हो गई। महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। महिला को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। ज्योति शाह आलमपुर निवासी पप्पू पुत्र मोलहे घर में सो रहा था। रात करीब एक बजे कच्ची दीवार गिरने से पप्पू उसके नीचे दब गया। ग्रामीण जब तक दीवार के मलबे को हटाते, पप्पू की मौत हो गई। मृतक मूकबधिर था।

जानकारी पर तहसीलदार सिधौली आरपी सिंह व क्षेत्रीय लेखपाल ने मौके पर पहुंचे। मुआवजा राशि जल्द दिलाने का आश्वासन दिया है। वहीं झरसौवां गांव निवासी मालती देवी के घर की छत गुरुवार की देर रात ढह गई। छत के मलबे में दब जाने से मालती देवी गंभीर रूप से घायल हो गई।

सरैंया: सदरपुर के अहिबनपुर निवासी 50 वर्षीय रामसिंह पुत्र विशंभर दयाल के घर की दीवार भी बारिश की वजह से गिर गई। दीवार के नीचे दबने से रामसिंह की मौत हो गई। मृतक के पुत्र लाल बहादुर ने मामले की जानकारी पुलिस व प्रशासन को दी। परिवारजन ने शव का पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया।

Edited By: Jagran