संसू, नैमिषारण्य (सीतापुर) : अट्ठासी हजार ऋषियों की तपोस्थली नैमिषारण्य के लिए स्वतंत्रता दिवस का दिन बेहद खास था। आजादी के पर्व पर रविवार को तुलसी जयंती का अद्भुत संयोग भी था। नामचीन अवधी साहित्यकार इस पुण्य भूमि पर अवधी के उत्थान का संकल्प लेकर जुटे थे। इस पुनीत अवसर पर अवधी सेवियों पर सम्मान पुष्प भी बरसे। अब हर वर्ष तुलसी जयंती अवधी दिवस के रूप में मनेगी।

अवध भारतीय संस्थान हैदरगढ़ बाराबंकी के तत्वावधान में ललिता आश्रम में आयोजित तुलसी जयंती पर अवधी दिवस समारोह में मंच संतों की उपस्थिति से सुशोभित था। बनगढ़ आश्रम के महंत संतोष दास खाकी ने कहा कि अवधी ने केवल देश ही नहीं, बल्कि संपूर्ण विश्व में अपने समृद्धशाली साहित्य की छटा बिखेरी है। संत शिरोमणि तुलसीदास ने रामचरितमानस जैसे पवित्र ग्रंथ के माध्यम से प्रभु श्रीराम व उनके आदर्शों को विश्व में पहुंचाया और श्रीराम को जन-जन का बना दिया। इस दौरान प्रदीप तिवारी की अंतर्जाल मा नौनिहाल, विष्णु कुमार शर्मा की सफल जीवन के सूत्र, अर्जुन पांडेय की पुस्तक जब जागो तबे सबेरा का लोकार्पण हुआ।

आकाशवाणी लखनऊ की पूर्व निदेशक डा. नूतन वशिष्ठ, रेडियो कलाकार अनुपमा ने मुंशी प्रेमचंद की कहानी आत्माराम का आकर्षक प्रस्तुतीकरण किया। कथारंग संस्थापिका नूतन वशिष्ठ के अवधी बोली के प्रेम और उसके प्रचार प्रसार का कार्य करने के लिए तुलसी अवधी सम्मान से सम्मानित किया गया। प्रेमचंद के लिखित आत्माराम कहानी का वाचन अवधी भाषा में कथारंग संस्थापक नूतन वशिष्ठ, सत्य प्रकाश मिश्र, अंशू गुप्ता ने किया। कहानी का अवधी रूपांतरण आकाशवाणी के उद्घघोषक सत्यानंद वर्मा ने किया।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में अयोध्याधाम के संत सर्वेश्वरनंद महाराज, कालीपीठाधीश गोपाल शास्त्री, ललिता देवी मंदिर के पुजारी अटल शास्त्री, ललिता पीठाधीश लालबिहारी शास्त्री, डायट प्राचार्य जेपी मिश्र, आराध्य शुक्ल, देवीशंकर बाजपेयी, उमाकांत पांडेय, हरीश शुक्ल, आशीष मिश्र मौजूद रहे। कथा रंग संस्था की सचिव अनुपमा शरद व सदस्य पूजा विमल भी मौजूद रहीं।

इन्हें किया गया सम्मानित

अवधी सेवाओं के लिए डा. राकेश पांडेय, डा. विनय दास, डा. ज्ञानवती दीक्षित, डा. रमेश मंगल वाजपेयी, इंद्रशेखर सिंह, रमेश वाजपेयी, प्रदीप तिवारी, हिमांशु श्रीवास्तव, नूतन वशिष्ठ, अरुणेश मिश्र, आध्या प्रसाद सिंह, प्रदीप, अर्जुन पांडेय के अलावा निर्मल भानू सेवा समिति बिसवां और श्री बूढ़े बाबा आश्रम डेंगरा ने डा. राम बहादुर मिश्र, तुलसी पीठ महामंत्री साकेत मिश्र, डा. सुधाकर तिवारी व रवींद्र तिवारी को सम्मानित किया।

Edited By: Jagran